पर्यटन और तीर्थाटन के शौकीन हैं तो गजा की तरफ रुख कीजिये

पर्यटन और तीर्थाटन के शौकीन हैं तो गजा की तरफ रुख कीजिये
play icon Listen to this article

विकासखंड चम्बा और फकोट की सीमा पर बसा गजा पर्यटन और तीर्थाटन की अपार संभावनाओं से भरा हुआ है। चम्बा डांडाचली से आगे नगर पंचायत गजा खूबसूरत कस्बा है।

[su_highlight background=”#880e09″ color=”#ffffff”]सरहद का साक्षी @डी0पी0 उनियाल, गजा [/su_highlight]

सर्दियों का मौसम हो या गर्मियों का हर समय पर्यटकों को आकर्षित करता है। गजा तमियार सड़क पर गौंतयाचली से चार किलोमीटर ऊपर बांज बुरांश के जंगलों के बीच घंण्टाकर्ण धाम है जो प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। भक्तों का प्रचाधारी इष्ट देव है । गजा पोखरी चाका सड़क के नीचे भागीरथी नदी के किनारे पर प्रसिद्ध धार्मिक स्थल कोटेश्वर महादेव मंदिर है।

पर्यटन और तीर्थाटन के शौकीन हैं तो गजा की तरफ रुख कीजिये

सन्तान प्राप्ति हेतु यहां पर महिलाओं द्वारा रात भर दीपक जलाकर भगवान महादेव की पूजा अर्चना खड़े रहकर की जाती है। यहां पर भागीरथी नदी उत्तरवाहिनी है । गजा से नकोट सड़क पर जगेठी से ऊपर प्रसिद्ध धार्मिक स्थल मां राजराजेश्वरी का मंदिर है।

पर्यटन और तीर्थाटन के शौकीन हैं तो गजा की तरफ रुख कीजिये

गजा डांडाचली व गजा तमियार सड़क पर बांज बुरांश , के घने जंगल हैं जहां पर आजकल मार्च व अप्रैल माहों में बुरांश के फूलों से लकदक बृक्ष हैं तो काफल के पेड़ भी हैं जो मनभावन हैं ।गजा के पास अब निजि काटेज भी हैं। कीवी और इटैलियन सेब के बागीचे भी तैयार हैं ।” कभी मन करे घूमने का तो हमारे गजा चले आना “