सोमवार , जुलाई 4 2022
Breaking News
कितना सुंदर होता- यदि कोई कविता सुनता और सुनाता !

कितना सुंदर होता- यदि कोई कविता सुनता और सुनाता !

play icon Listen to this article

[su_highlight background=”#880930″ color=”#ffffff”]सरहद का साक्षी @कवि:सोमवारी लाल सकलानी, निशांत[/su_highlight]

हम अकेले ही- सृष्टि में  सर्जन करते हैं !
चलते-चलते राहों पर बैठ –
अकेले क्षुधा प्यास मिटाते हैं।
हम उस पथ के राही हैं, जिस पर चलते हैं-
सब अकेले भावों में विह्वल, खोये सपनों में।
हम अकेले ही——
भाग्य विधाता देख रहा है- उच्च शिखर से,
श्रद्धा भाव से अनंत शांति पाने वालों को।
हम ऊंचाई छूने वाले हैं कोलाहल से दूर,
ऊंचे वीरान पहाड़ों में- जंगल के बीच बनी हुई – राहों में, अकेले ही रचना रचते हैं।
हम अकेले ही——
कभी-कभी हम राह भटक जाते हैं,अपने भाव ख्यालों में जिन राहों पर चलते हैं -लोग मटक- मटक कर।
हम अकेले ही—–
मां ! ले प्रसाद के रूप में, मेरे प्रेम छलकते आंसू !
कितना सुंदर होता ! यदि कोई पथ का साथी होता! साथी तो बहुत से मिले हैं- पर कोई तो साथ निभाता ! कितना सुंदर होता ! यदि कोई ऐसा मिलता,
जो बैठ ऊंचाई के पथ पर- कविता सुनता और सुनाता !
हम अकेले ही——
क्या जीवन रस मिलता है हमको?निर्जन वन में सृजन से एक हताशा भरे विश्व में -मन निर्मल करने से।
क्या भाव भरे हैं मेरे इस मन में,
खट्टे- मीठे, कुछ कड़वे तीखे !
उच्च शिखर से देख रही मां, कुछ प्रसन्न कुछ रूठे !

Print Friendly, PDF & Email

Check Also

समाज सेवा में उत्कृष्ट कार्य करने पर समाजसेवी दिनेश प्रसाद उनियाल को किया गया सम्मानित

समाज सेवा में उत्कृष्ट कार्य करने पर समाजसेवी दिनेश प्रसाद उनियाल को किया गया सम्मानित

Listen to this article प्रगतिशील जन विकास संगठन गजा टिहरी गढ़वाल के अध्यक्ष व प्रसिद्ध …

error: Content is protected !!