युवा शक्ति सहयोग संगठन भिलंगना ने किया घनसाली SBI आधार सेवा केंद्र का घेराव, भारी अनियमितताओं का आरोप  

play icon Listen to this article

युवा शक्ति सहयोग संगठन भिलंगना ने शुक्रवार को SBI आधार सेवा केंद्र घनसाली में आधार कार्ड बनवाने तथा उसके बाद त्रुटि सुधार के नाम पर कथित तौर पर अवैध धन उगाही तथा भौगौलिक परिस्थितियों के आधार पर सेवा केंद्र खोलने के विरोध में SBI आधार कार्ड केंद्र का घेराव किया।

संगठन के पदाधिकारियों एवं सदस्यों ने बताया कि आधार कार्ड बनाने में निर्धारित शुल्क से कई ज्यादा पैसे वसूले जा रहै हैं। आधार कार्ड बनवाने व सुधारीकरण के बाद आम जनमानस को फीस स्लिप उपलब्ध न करवाना, आधार कार्ड बनवाने एवं सुधारीकरण हेतु 3-4 महीने बाद का समय दिया जा रहा है तथा नए आधार कार्ड बनाते समय संचालक द्वारा कंप्यूटर में डाटा फीड करते समय कई त्रुटियां की जा रही हैं।

प्रदर्शनकारियों ने बताया कि आधार कार्ड की जानकारी फ़ीड करते वक्त महिला के स्थान पर पुरुष, पुरुष की जगह महिला, उम्र 17 के स्थान पर 71, पता में फेरबदल, फोटो में परिवर्तन इत्यादि कई प्रकार की गलतियां जानबूझकर की जा रही हैं, ताकि लोग इन केंद्रों का चक्कर लगाते रहें।

युवाओं ने बताया कि उन त्रुटियों में सुधार के लिए दूर-दराज से ग्राहक पुनः आता है, तो निर्धारित शुल्क की जगह 100 से 200 रुपए की धनराशि वसूल की जाती है, और एक दिन में लगभग 100, 150, 200 लोग एक दिन में रोजाना लाइन में लगे रहते हैं।

लोग बहुत बार विरोध करते हैं, परंतु यही जवाब मिलता है की यही दर है एवं हम एक दिन में 30-40 आधार कार्ड ही बनाते हैं जबकि UIDAI एक ऑपरेटर या एक सिस्टम को 150 आधारकार्ड बनाने अथवा सुधारीकरण की अनुमति देता है।

संगठन के संस्थापक नित्यानन्द कोठियाल ने बताया कि दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों (गंगी- पिंसवाड जैसे सीमांत क्षेत्र) से लोगों को इसी एक काम के लिए कई बार घनसाली आना पड़ता है, जिससे अनावश्यक समय व धन की बरबादी होती है। दूरस्थ क्षेत्रों से महिलाएं दिन भर अपने दुधमुंहे बच्चों के साथ कई-कई दिनों तक चक्कर काटती हैं।

कोठियाल ने आरोप लगाया कि इनका एक काउंटर बैंक के अंदर और एक बैंक के बाहर ठीक सामने बना हुआ है जो कथित रूप सर अवैध धन वसूली करता है। उन्होंने इस सब खेल में कई अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत का भी आरोप लगाया है।

संगठन ने मांग की कि जनहित और जनमानस की व्यवस्था को देखते हुए अपने स्तर से जांच कर उक्त जनसेवा संचालक के विरुद्ध कार्यवाही अमल में लाई जाए तथा भौगौलिक परिस्थितियों को देख कर प्रत्येक पट्टी में जनसेवा आधार कार्ड केंद्र खोले जाएं, जिससे आमजन राहत महसूस कर सके एवं संगठन किसी भी शर्त पर आम जनमानस को होने वाली समस्याओं को बर्दाश्त नहीं करेगा ! अन्यथा की स्थिति में संगठन उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होगा।

इस दौरान सागर भट्ट, अक्षित रावत, आशीष जोशी, विनोद लाल, शशांक जोशी, नरेंद्र रावत, नीतीश चंद्र, नितिन राणा, सुमित जोशी, मयंक, अश्वनी एवं अन्य दर्जनों पदाधिकारी व सदस्य उपस्थित रहे।