सोमवार , जुलाई 4 2022
Breaking News
नई टिहरी में पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत वीडियोे कान्फ्रेंस कार्यक्रम आयोजित

नई टिहरी में पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत वीडियोे कान्फ्रेंस कार्यक्रम आयोजित

play icon Listen to this article

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत वीडियोे कान्फ्रेंस के माध्यम से 39 जनपदों के साथ संवाद किया गया। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना काल के दौरान अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों को स्कॉलरशिप और अन्य सुविधाएं जारी की जायेंगी। जिसके तहत बच्चों को स्नेह पत्र, पासबुक और आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत हेल्थ कार्ड सौंपा जायेगा।

इस वीडियो कॉन्फ्रंेस से जुड़ने हेतु विकास भवन सभागार नई टिहरी में कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें विधायक टिहरी किशोर उपाध्याय एवं प्रभारी जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी नमामि बंसल द्वारा जनपद के 08 ऐसे बच्चों, जिन्होंने कोरोना काल के दौरान अपने माता-पिता को खोया है, को प्रमाण पत्र एवं दस्तावेज साैंपे गये। इन 08 बच्चों में 06 बालिकाएं एवं 02 बालक शामिल हैं।

🚀 यह भी पढ़ें :  मिशन 2022: किशोर  उपाध्याय    की मौजूदगी में जाखणीधार के कई लोग कांग्रेस में शामिल

प्रधानमंत्री ने कहा कि पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन स्कीम के तहत ऐसे बच्चों को 2 हजार रुपये की सहायता राशि के साथ पढ़ाई-लिखाई और मेडिकल इंश्योरेंस की सुविधा दी जायेगी। स्कीम के तहत कोरोना के कारण माता-पिता खोने वाले बच्चों को सरकार 18 साल की उम्र तक मासिक भत्ता देगी। बच्चों के 23 साल के होने पर पीएम केयर्स फंड से 10 लाख रुपये की राशि एकमुश्त दी जाएगी। केंद्र सरकार की तरफ से इन बच्चों को निशुल्क शिक्षा दी जाएगी, इसके तहत बच्चों को हायर एजुकेशन के लिए लोन मिलेगा, जिसका ब्याज पीएम केयर्स फंड से दिया जाएगा। इन बच्चों को आयुष्मान भारत योजना के तहत 18 साल तक 5 लाख रुपये तक का हेल्थ इंश्योरेंस मिलेगा तथा इंश्योरेंस का प्रीमियम पीएम केयर्स फंड से भरा जाएगा।

🚀 यह भी पढ़ें :  टिहरी जिले  में देर रात 3.2 और 3.8 तीव्रता के भूकंप से दो बार हिली धरती

दस साल से कम उम्र के बच्चों का नजदीकी सेंट्रल स्कूल या प्राइवेट स्कूल में एडमिशन कराया जाएगा तथा जो बच्चे 11 से 18 वर्ष के बीच के हैं उन्हें सैनिक स्कूल और नवोदय विद्यालय जैसे केंद्र सरकार के किसी भी आवासीय स्कूल में भर्ती कराया जाएगा। अगर बच्चा अपने अभिभावक या परिवार के किसी अन्य सदस्य के साथ रहता है तो उसे भी नजदीकी केंद्रीय विद्यालय या निजी स्कूल में एडमिशन मिलेगा।

बच्चे का नामांकन निजी स्कूल में किया जाता है तो शिक्षा का अधिकार कानून के तहत उसकी फीस पीएम केयर्स फंड से दी जाएगी और उसकी स्कूल यूनिफॉर्म, किताब एवं कॉपियों के खर्च का भी भुगतान किया जाएगा। इसके साथ ही बच्चे भावनात्मक सहयोग हेतु विशेष संवाद सेवा के तहत हेल्पलाइन नम्बर पर सलाह ले सकते हैं।

🚀 यह भी पढ़ें :  नकोट में सहकारी बैंक सीबीएस शाखा खोलने की मांग

इस मौके पर डीडीओ सुनील कुमार, प्रभारी डीपीओ बबीता शाह, अध्यक्ष सीडब्लूसी रमेश चन्द्र रतूड़ी, सदस्य महीपाल सिंह नेगी, लक्ष्मी प्रसाद उनियाल, रागनी भट्ट, अमिता रावत सहित मेहरबान सिंह रावत, जीतराम भट्ट आदि संबंधित मौजूद रहे।

Print Friendly, PDF & Email

Check Also

InShot 20220701 172537422

भिलंगना के घुत्तु-गंगी क्षेत्र में पर्यटन और साहसिक खेलों की अपार सम्भावनाओं के मद्देनजर जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव की एक अभिनव पहल

Listen to this article विकासखण्ड भिलंगना के घुत्तु-गंगी क्षेत्र में पर्यटन और साहसिक खेलों की …

error: Content is protected !!