सड़क डामरीकरण को लेकर चम्बा में चल रहा धरना परस्पर सहमति से स्थगित

0
225
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

सड़क डामरीकरण को लेकर चम्बा में चल रहा धरना परस्पर सहमति से स्थगित

संघर्ष समिति और उच्चाधिकारियों के बीच वार्ता के बाद लिया गया निर्णय।

डेढ़ माह में की जाएगी प्रक्रिया पूर्ण,  मिलेगी जनता को सहूलियत

चम्बा, सोमवारी लाल सकलानी’निशांत’ : यहां विजय चौक चौराहे पर सड़क डामरीकरण को लेकर चल रहा धरना आंदोलनकारियों व प्रशासन की परस्पर सहमति से स्थगित हो गया है। संघर्ष समिति और उच्चाधिकारियों के बीच वार्ता के बाद यह निर्णय लिया गया।

कॉलेज रोड चंबा बाईपास मार्ग डामरीकरण की प्रक्रिया डेढ़ माह में पूरी कर ली जाएगी। 200 मीटर सड़क नगर पालिका परिषद की एनओसी के साथ पीडब्ल्यूडी प्रस्ताव राजस्व विभाग को भेजेगी।

नगर पालिका सड़क का डामरीकरण करेगी। 900 मीटर वन विभाग में आने वाली भूमि डेढ़ माह के भीतर पीडब्ल्यूडी को स्थानांतरित कर दी जाएगी। उसके बाद पीडब्ल्यूडी इस सड़क का डामरीकरण करेगी। निहित प्रक्रिया पूर्ण होने तथा कार्य करने की कट ऑफ डेट संबंधित विभागों की वार्ता के बाद संघर्ष समिति को लिखित दिया गया।

चंबा -नागणी बाईपास (कॉलेज रोड) सड़क डामरीकरण की एक सूत्रीय मांग के लिए स्थानीय जनता,विभिन्न गांवों के लोग संघर्ष समिति के बैनर तले वीसी गबर सिंह चौक में धरने पर बैठे थे।

आज छठवे दिन प्रशासन की ओर से तहसीलदार आशीष घिल्डियाल, PWD के अधिशासी अभियन्ता पी एस नेगी, वन विभाग के एसडीओ किशोर नौटियाल व वन क्षेत्राधिकारी प्रबोध पांडे, नगर पालिका परिषद चंबा से अधिसाशी अधिकारी उपेंद्र तिवारी के साथ संघर्ष समिति की ओर से दिनेश भंडारी, रघुवीर रावत, शक्ति जोशी, विक्रम चौहान, विनोद बडोनी आदि की वार्ता के बाद लिखित सहमति बनने पर धरना स्थगित कर दिया गया।

संघर्ष समिति की ओर से स्पष्ट किया गया कि यदि दिए गए समय अंतराल में यह कार्य प्रक्रिया पूर्ण नहीं हुई और सड़क का डामरीकरण न किया गया तो इसके लिए संघर्ष समिति पुनः आंदोलन के लिए बाध्य होगी और आंदोलन की धार इतनी तेज होगी कि उसको थामना मुश्किल होगा।

संघर्ष समिति ने स्पष्ट शब्दों में प्रशासन को अवगत कराया है कि किसी भी कीमत पर टालमटोल नहीं होनी चाहिए। जनप्रतिनिधियों को भी जनता को जवाब देना होता है।अधिकारियों की जवाबदेही बनती है कि वह यथा समय कार्य को पूर्ण करें। मजबूरन जनता को शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन के लिए बाध्य होना पड़ा।

स्थानीय लोगों, नगर वासियों, संबंधित ग्राम सभाओं और आवागमन करने वालों लोगों ने सौहार्दपूर्ण वातावरण में हुए इस सहमति का स्वागत किया है।

Comment