प्रतिभा किसी परिचय की मोहताज नहीं और मेहनत का कोई विकल्प नहीं

349
प्रतिभा किसी परिचय की मोहताज नहीं और मेहनत का कोई विकल्प नहीं

प्रतिभा किसी परिचय की मोहताज नहीं और मेहनत का कोई विकल्प नहीं

साधारण परिवार के सगे भाई बहिन ने हासिल की उपलब्धि

एमबीबीएस सरकारी सीट और कोल इंडिया लिमिटेड में हुआ चयन

एमबीबीएस के लिए चयनित हुई मंज्युड की शिवानी नेगी

चम्बा, कवि: सोमवारी लाल सकलानी ‘निशांत’: प्रतिभा किसी परिचय की मोहताज नहीं और मेहनत का कोई विकल्प नहीं। साधारण परिवार के सगे भाई बहिन ने हासिल की उपलब्धि। एमबीबीएस सरकारी सीट और कोल इंडिया लिमिटेड में हुआ चयन। बात कर रहा हूं, चंबा से सटे हुए गांव मंज्युड की। ग्यारह अगस्त कैबिनेट मंत्री डॉ धन सिंह रावत अमृत वाटिका निर्माण के लिए मिट्टी लेने वीसी गबर सिंह नेगी के गांव आए थे। इसी परिप्रेक्ष्य में मुझे भी गांव में आमंत्रित किया गया था। आजादी के अमृत महोत्सव काल में ‘वीर वंदन’ एक अच्छी पहल है। प्रधानमंत्री जी के पांच संकल्प “पंचप्रण” द्वारा इसी अनुक्रम में विक्टोरिया क्रॉस गबर सिंह नेगी के गांव मंजूड की मिट्टी (मेरी माटी मेरा देश अभियान के तहत) भी अमृत वाटिका निर्माण हेतु पहुंचायी जाएगी।

मंत्री जी के द्वारा अनेकों घोषणा गांव के लिए की गई। कुछ समय बाद ग्राउंड पर कार्य दिखाई देंगे। कार्यक्रम के समापन के बाद जब मुझे ज्ञात हुआ कि पूर्व सैनिक कुंवर सिंह नेगी, जिन्हें मैं अच्छी प्रकार जानता हूं की बालिका का एमबीबीएस में चयन हुआ तो सोचा कि शुभाशीष दे दूं। समय निकालकर 22 वर्षीय कुमारी शिवानी नेगी से बातचीत हुई जिसका सार निम्नवत है।

कु.शिवानी नेगी साधारण सैनिक के परिवार में पैदा हुई और आरंभिक शिक्षा गांव मे ही हुयी। चंबा के मॉडर्न स्कूल में हाईस्कूल करने के बाद केंद्रीय विद्यालय नई टिहरी से शिवानी ने कक्षा 12 की परीक्षा उत्तीर्ण की। तदोपरांत डॉक्टर बनने का लक्ष्य निर्धारित किया और देहरादून में नीट की कोचिंग ली उसके बाद बीएमएस में गुरुकुल हरिद्वार में सेलेक्शन हुआ और एमबीएस के लिए अप्लाई किया। प्रथम यह प्रयास में एमबीबीएस में अच्छे अंक हासिल करके वीर चंद्र सिंह गढ़वाली मेडिकल कॉलेज श्रीनगर उन्हें प्रवेश मिला है। यहां बहुत ही कम शुल्क पर एमबीबीएस का कोर्स करवाया जाता है।

बात यह नहीं है कि कुमारी शिवानी एमबीबीएस में निकली। बड़ी बात यह है कि एक साधारण परिवार और साधारण सैनिक की पुत्री ने लक्ष्य निर्धारित कर पढ़ाई की और लक्ष्य की प्राप्ति की। आने वाले समय में शिवानी एक लब्ध प्रतिष्ठित डॉक्टर बनेगी।

कु. शिवानी के भाई प्रदीप नेगी ने भी मॉडर्न स्कूल चंबा और केंद्रीय विद्यालय से हाईस्कूल और इंटर की परीक्षा पास कर पंतनगर से बीटेक किया और उसके बाद प्रदीप ने गेट परीक्षा उत्तीर्ण की। सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में इंडियन रेलवे में चयन हुआ। 02 साल तक वहां नौकरी करने के बाद अभी 02 माह पूर्व प्रदीप नेगी का चयन सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में कोल इंडिया लिमिटेड में हुआ है। यह किसी बड़ी उपलब्धि से कम नहीं है।

एक पूर्व सैनिक की पुत्री एमबीबीएस डॉक्टर और बेटा कोल इंडिया लिमिटेड में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में सेलेक्ट हुए हैं। कोल इंडिया लिमिटेड में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में प्रदीप एक बड़ी सैलरी पर नियुक्त हुए हैं जबकि कुमारी शिवानी सरकारी फ्री सीट से न्यूनतम शुल्क में एमबीबीएस का कोर्स करेंगी। यह सुखद एहसास के साथ-साथ क्षेत्र के लिए प्रेरणास्पद है।

कुमारी शिवानी से बातचीत के दौरान यह भी ज्ञात हुआ कि वह अपने घरेलू कार्यों में नियमित अपनी माता सुनीता देवी के साथ सहयोग करती रही और दोनों भाइयों ने जी तोड़ मेहनत के साथ-साथ अपनी पढ़ाई पर ध्यान दिया।

यदि लक्ष्य निर्धारित कर दिया जाए और उसी के अनुकूल मेहनत की जाए तो उपलब्धि प्राप्त की जा सकती है। कु.शिवानी और प्रदीप नेगी ने यह कर दिखाया है।

उनकी इस उपलब्धि पर उनके ग्रामवासियों में एक खास उत्साह नजर आया। ग्राम प्रधान को कुसुम नेगी, पूर्व कमांडेंट धन सिंह नेगी, कैप्टन आनंद सिंह नेगी, पूर्व सैनिक संगठन के पूर्व अध्यक्ष इंद्र सिंह नेगी, कमल सिंह नेगी, भजन सिंह नेगी,शिवसिंह नेगी आदि ने खुशी का इजहार किया और कुछ. शिवानी को सम्मानित भी किया है।

Comment