सोते समय किस करवट लेटना चाहिए? ताकि बीमारियों से मिले मुक्ति

44
हिन्दी दिवस पर विशेष: कैसे हिन्दी की उन्नति के विषय में प्रयास किया जाय विचारणीय?

सोते समय किस करवट लेटना चाहिए? ताकि बीमारियों से मिले मुक्ति

रात को सोते समय किस तरह की करवट लें यह हमें पता नहीं होता, कभी हम दाईं ओर करवट लेते हैं तो कभी बाईं ओर तो कभी औधें मुंह लेट जाते हैं। जिससे हमें लगता है कि आराम मिल रहा है और उस तरफ हम करवट करके लेट जाते हैं।

हमको यह बात पता है कि रात को जब हम सोते हैं तो हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हमारे इस करवट से हमारे शरीर के अंगों के साथ-साथ दिमाग में भी फर्क पड़ता है।

विशेषज्ञों के अनुसार बायीं ओर करवट लेकर सोने से हमारी सेहत के लिए काफी फायदे है। इससे हम कई बीमारियों से बच जायेंगे। लेकिन कई बार रात को सोते वक्त खुद पता नहीं होता है कि हम किस पोजीशन में लेटे हैं। इसलिए कोशिश करें कि बायीं ओर पोजीशन पकड़कर सोएं। इससे हमें पेट संबंधी कई समस्याओं से निजात मिलेगी साथ ही आपका दिमाग सुचारु रूप से काम करेगा।

  1. अगर व्यक्ति को पेट संबंधी जैसे पेट का फूलना, गैस बनना, एसिडिटी की समस्या आदि है तो इससे हमको फायदा मिल सकता है। डॉक्टरों के अनुसार माना जाता है कि बायीं ओर करवट लेकर सोने से शरीर में जमा होने वाले टॉक्सिन धीरे-धीरे लसिका तंत्र द्वारा निकल जाते हैं।

बायीं ओर सोने से हमारे लीवर पर किसी प्रकार का कोई दबाव नहीं पड़ता, इसलिए यह टॉक्सिन शरीर से बाहर निकलने में सफल हो जाते हैं। जिससे हम कई बीमारियों से बच जाते हैं।

  1. बायीं ओर सोने के कारण ग्रेविटी, भोजन को छोटी आंत से बड़ी आंत तक आराम से पहुंचाने में मदद करती है। जिसके कारण सुबह हमारा पेट आसानी से साफ हो जाता है।
  2. हम जानते हैं कि हमारे शरीर में सबसे ज्यादा गंदगी हमारे लीवर और किडनियों में पाई जाती है। इसी कारण रात को सोते समय इसमें ज्यादा प्रेशर पड़ता है। जिसके कारण हमें एसिडिटी की समस्या हो जाती है। बायीं ओर करवट कर के सोने से ये दोनों ही अपना काम ठीक प्रकार से करते हैं। इससे ज्यादा बाइल जूस निकलता है जिससे वसा ठीक प्रकार से पचता है। साथ ही लीवर में फैट जमा नहीं हो पाता। तो अपने को निरोग रखने में बाईं तरफ करवट लेकर सोने की आदत बनाइए व अपने स्वास्थ्य को लाभान्वित कीजिए।

*Astrologer Harshmani Bahuguna