महाविद्यालय पाबौ में रूस-यूक्रेन युद्ध में भारत की भूमिका विषय पर भाषण प्रतियोगिता आयोजित

महाविद्यालय पाबौ में रूस-यूक्रेन युद्ध में भारत की भूमिका विषय पर भाषण प्रतियोगिता आयोजित
play icon Listen to this article

राजकीय महाविद्यालय पाबौ में राजनीति विज्ञान विभाग परिषद की ओर से भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

[su_highlight background=”#880e09″ color=”#ffffff”]सरहद का साक्षी @ विक्रम सिंह रावत, पौड़ी[/su_highlight]

इस प्रतियोगिता का शीर्षक था “रूस- यूक्रेन युद्ध में भारत की भूमिका”।

महाविद्यालय पाबौ में रूस- यूक्रेन युद्ध में भारत की भूमिका विषय पर भाषण प्रतियोगिता आयोजित

प्रतियोगिता में लगभग 15 छात्र छात्राओं ने प्रतिभाग किया और अपने अपने विचार रखे। उनके द्वारा बताया गया कि ऐसी स्थिति में गुट निरपेक्षता की नीति अपनाकर मानवता का पक्ष रखना आवश्यक है।

महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.आर.के. उभान द्वारा छात्र छात्राओं को ऐसे ज्वलंत मुद्दे पर अपने विचार रखने पर सराहा गया और साथ ही बताया गया की युद्ध हर स्थिति में दोनों पक्षों के लिए नुकसान दायक है क्योंकि देश के संसाधनों की क्षति के कारण राष्ट्र का भविष्य दाव पर होता है। प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में डॉ.कुसुम लता नौटियाल, डॉ.रजनी वाला तथा डॉ.तनुजा रावत उपस्थित रहे।

प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्रथम वर्ष की छात्रा दीक्षा रौथाण के नाम रहा तृतीय स्थान पर ज्योति रही और तृतीय स्थान मुस्कान के नाम रहा।