मानसून सम्भावित आपदाओं के दृष्टिगत रोकथाम एवं बचाव  हेतु तैयारियों को लेकर मुख्यमंत्री की उच्च स्तरीय अधिकारियों से समीक्षा बैठक


 

play icon Listen to this article

आगामी मानसून अवधि में सम्भावित आपदाओं के दृष्टिगत आपदाओं की रोकथाम एवं बचाव से संबंधित तैयारियों को लेकर आज मा. मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने उच्च स्तरीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।

जनपद से जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह भुल्लर सहित अन्य अधिकारियों द्वारा जिला कलेक्ट्रेट टिहरी गढ़वाल के वी.सी. कक्ष से वर्चुअल माध्यम से बैठक में प्रतिभाग किया गया।

जिलाधिकारी टिहरी गढ़वाल इवा आशीष श्रीवास्तव ने अवगत कराया कि आगामी मानसून अवधि में आपदा की दृष्टि से शैडो एरिया में कनेक्टीविटी की सुविधा न होने से समस्या हो सकती है। उन्होंने कहा कि ऐसे शैडो एरिया को चिन्ह्ति कर सूची शासन को उपलब्ध करा दी जायेगी। उन्होंने एसडीआरएफ फण्ड से परमानेंट गाड़ियों की भी मांग की, ताकि किसी भी प्रकार की आपदा आने पर तत्काल राहत एवं बचाव कार्य किया जा सके।

उन्होंने कहा कि आपदा न्यूनीकरण में कई योजनाएं प्रस्तावित की गई है, यदि शासन से पैंसा रिलीज हो जाएं, तो इससे आपदा में काफी राहत मिलेगी। उन्होंने टीएचडीसी के प्रकरणों से भी अवगत कराया। इस पर मुख्य सचिव ने कहा कि टीएचडीसी के जो भी मुद्दे हैं, उनकी सूची बनाकर भेजें। जिलाधिकारी ने कहा कि बाकी सभी तैयारियां पूरी हैं।

मुख्यमंत्री ने निर्देशित किया कि मानसून आने से पहले ही सभी अपने-अपने स्तर से तैयारियां पूरी कर लें। आपदा की दृष्टि से संवेदनशील, अति संवेदनशील स्थानों का चिन्ह्किरण कर आवश्यक कार्यवाही कर लें। संचार व्यवस्था, खाद्यान्न व्यवस्था, पेयजल, राहत सामाग्री आदि सभी व्यवस्थाएं पहले ही तैयार कर लें।

सूचनाओं के अदान-प्रदान हेतु तहसील स्तर पर आपदा कन्ट्रोल रूम बना लें। तहसील स्तर पर आपदा मित्रों का प्रशिक्षण करवा लें। सड़कों पर मलवा आने, भूधंसाव, भूस्खलन होने पर वैकल्पिक मार्गों की व्यवस्था कर लें। एसडीआरएफ की तैनाती बढ़ा लें। उन्होंने कहा कि संवेदनशील क्षेत्रों में ग्राम स्तर पर भी ग्रामीणांे को प्रोत्साहित कर सक्षम लोगों की टीम बनाकर प्रशिक्षित कर तैयार लें।

इस मौके पर अपर जिलाधिकारी रामजी शरण शर्मा, डीडीओ सुनील कुमार, डीएफओ टिहरी डिवीजन वी.के. सिंह, सीएमओ डॉ. संजय जैन, एआरटीओ चक्रपाणी मिश्रा, डीएसओ अरूण वर्मा, साहसिक खेल विकास अधिकारी खुशाल सिंह नेगी, अधि.अभि. जल संस्थान सतीश नौटियाल सहित अन्य संबंधित अधिकारी वीडियो कान्फ्रेंस से जुड़े रहे।