सोमवार , जुलाई 4 2022
Breaking News
कविता: वाह रे पुतिन! कोरोना का डर भगा दिया

कविता: हिंसा-हिंसक मानव से डरा रहा

play icon Listen to this article

घूर कर नहीं देखते हैं, भाई!

तुम घर-आंगन की शोभा हो।
वर्षों से तुमसे नाता- रिश्ता है,
क्यों फिर घूर कर  देखते हो!

यह तुम्हारा भ्रम है प्रिय भाई,
क्यों मै तुम्हें घूर  कर  देखूंगा !
मै तुम्हारे प्यार में पागल पंछी,
देख दूर से  सलाम कर लूंगा।

🚀 यह भी पढ़ें :  कविता: घर का मतलब महल नहीं है !

मै कृतघ्न नहीं हो सकता भाई!
नित कृतज्ञ प्रकृति का बना रहा।
बस, जीवन के डर के कारण ही,
हिंसा हिंसक मानव से डरा रहा।

मै कवि हूं नव -रस भरने वाला,
जग सुंदरता-सौंदर्य का दीवाना।
अभिभूत हूं जीव सृष्टि सौंदर्य का,
धरती माता की छटा सुंदरता का।

🚀 यह भी पढ़ें :  कविता:  यह पुष्प समर्पित उन वीरों को...!

@कवि:सोमवारी लाल सकलानी’ निशांत’

     (कवि कुटीर)
सुमन कालोनी चंबा, टिहरी गढ़वाल।

Print Friendly, PDF & Email

Check Also

अमर शहीद श्रीदेव सुमन जी (जन्म दिवस) व स्व. श्री प्रताप शिखर जी (पुण्यतिथि)  का भावपूर्ण स्मरण

अमर शहीद श्रीदेव सुमन जी (जन्म दिवस) व स्व. श्री प्रताप शिखर जी (पुण्यतिथि) पर भावपूर्ण स्मरण

Listen to this article श्री देव सुमन जी के जन्म दिवस के साथ ही आज …

error: Content is protected !!