शहीद विक्रमसिंह नेगी के गांव में धूमधाम से मनाया गया आजादी का उत्सव

526
शहीद विक्रमसिंह नेगी के गांव में धूमधाम से मनाया गया आजादी का उत्सव
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

शहीद विक्रमसिंह नेगी के गांव में धूमधाम से मनाया गया आजादी का उत्सव

शहीद विक्रम सिंह नेगी के पिता साहबसिंह नेगी ने फलदार पौधा रोपण करते हुए बृक्षारोपण का किया शुभारंभ

गजा, डीपी उनियाल: विकास खंड चम्बा में धारअकरिया पट्टी के बिमाणगांव में ‘मेरी माटी मेरा देश’ कार्यक्रम के साथ 77वां आजादी का उत्सव धूमधाम से मनाया गया। बिमाणगांव में शहीद विक्रमसिंह नेगी के पिता साहबसिंह नेगी के करकमलों से ध्वजारोहण किया गया।

शहीद विक्रमसिंह नेगी के गांव में आयोजित इस कार्यक्रम में दर्जनों लोग शामिल हुए। राजीव गांधी पंचायत घर खडवालगांव में आयोजित इस समारोह में अनेक पूर्व सैनिकों ने शामिल होकर शहीद विक्रमसिंह नेगी अमर रहे के जयघोष के साथ तिरंगे को सलामी दी।

शहीद विक्रमसिंह नेगी के गांव में धूमधाम से मनाया गया आजादी का उत्सवरिटायर कर्नल मूर्ति सिंह सजवाण, रिटायर कैप्टिन रतन सिंह, प्रधान ग्राम पंचायत सुरेन्द्र सिंह नेगी, ग्राम पंचायत विकास अधिकारी अश्वनी कुमार ने कहा कि सीमा पर शहीद विक्रमसिंह नेगी के बलिदान को हमेशा याद किया जाता रहेगा, कहा कि सैनिक अपने देश के लिए सब कुछ न्यौछावर कर देता है। शिलाफलक पर माल्यार्पण करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ ही शहीद को नमन किया गया।

शहीद विक्रम सिंह नेगी के पिता साहबसिंह नेगी ने फलदार पौधा रोपण करते हुए बृक्षारोपण का शुभारंभ किया। पूर्व सैनिकों को सम्मानित इस कार्यक्रम में पंचप्रण की शपथ ली गई। विदित हो कि सूबे के कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल शहीद के नाम पर पालिटेक्निक कालेज गजा का नाम करने की घोषणा कर चुके हैं।

शहीद के परिवार को सम्मानित करते हुए ग्राम पंचायत प्रधान सुरेंद्र सिंह नेगी तथा ग्राम पंचायत विकास अधिकारी अश्वनी कुमार ने कहा कि स्वाधीनता दिवस समारोह में शहीदों को श्रद्धांजलि ही सलामी है।

इस अवसर पर रिटायर सूबेदार नैन सिंह, पूर्व सैनिक महिपाल सिंह सजवाण, सुंदर सिंह, प्रेम सिंह, त्रिलोक सिंह, दरमियान सिंह, नेपाल सिंह के अलावा अतर सिंह, गम्भीर सिंह अजय सिंह पदम सिंह कमल सिंह भगवान सिंह सूरत सिंह श्रीमती उमा देवी, आंगनबाड़ी कार्यकत्री अनिता देवी, ज्योति देवी सहित दर्जनों ग्रामीण उपस्थित रहे। शहीद विक्रम सिंह नेगी के आंगन की मिट्टी अमृत कलश में रखी गई।

Comment