play icon Listen to this article

आपदा की स्थिति में पशुपालन विभाग द्वारा विकास खण्ड, जिला, मण्डल एवं राज्य स्तर पर कन्ट्रोल रूम की स्थापना करते हुए नोडल अधिकारी नामित है। आपदा सम्भावित समय में समस्त विकासखण्ड स्तरीय आपदा प्रकोष्ठ को सक्रिय किया गया है। आपदा के समय प्रत्येक विकास खण्ड स्तर पर त्वरित कार्यदल का गठन किया गया है। राज्य में 118 उपचारा बैंक स्थापित है जिसमें पर्याप्त मात्रा में कॉम्पैक्ट फीड ब्लॉक उपलब्ध है। राज्य में आपदा प्रबन्धन कार्य हेतु 103 टीमों का गठन किया गया है।

जल संस्थान विभाग द्वारा दैवीय आपदा से सम्बन्धित क्षति को दृष्टिगत करते हुये पेयजल योजनाओं के तत्काल पुनर्स्थापना हेतु 86.31 कि.मी GI Pipe एवं 110.82 कि.मी. HDPE Pipe कुल 196.93 K.M. पाईप शाखाओं में बफर के रूप में उपलब्ध है। जल शोधन एवं विसंक्रमण हेतु समस्त शाखाओं में आवश्यक रसायन उपलब्ध करा दिये गये हैं।

आपदा की स्थिति में, विभिन्न शाखाओं में पेयजल उपलब्ध कराये जाने हेतु 71 विभागीय टैंकर उपलब्ध हैं एवं किराये के 219 पेयजल टैंकर चिन्हित हैं। राज्य के अन्तर्गत वर्ष 2022 में दैवीय आपदा/अतिवृष्टि से वर्तमान तक कुल 318 पेयजल योजनायें क्षतिग्रस्त हो चुकी हैं जिनमें से 313 पेयजल योजनाओं में अस्थायी व्यवस्था से पेयजल आपूर्ति चालू कर दी गयी है तथा शेष 05 पेयजल योजनाओं को चालू किये जाने हेतु कार्यवाही प्रगति पर है। विगत 03 दिवस के भीतर दैवीय आपदा/अतिवृष्टि से 07 पेयजल योजनायें क्षतिग्रस्त हुई है, जिसमे 02 पेयजल योजनाओं में अस्थायी व्यवस्था से पेयजल आपूर्ति चालू कर दी गयी है तथा 05 पेयजल योजनाओं को चालू किये जाने हेतु कार्यवाही प्रगति पर है।

🚀 यह भी पढ़ें :  Uttrakhand को प्रति माह 20 लाख डोज़ वैक्सीन देने पर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने दी स्वीकृति

सिंचाई विभाग द्वारा देहरादून में स्थापित किया गया है केन्द्रीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष

सिंचाई विभाग द्वारा प्रत्येक जनपद में बाढ़ नियंत्रण कक्ष तथा देहरादून में केन्द्रीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष की स्थापना मानसून सत्र (दिनांक 15 जून से 15 अक्टूबर) हेतु की जा चुकी है। विभाग द्वारा राज्य में 22 स्थानों पर नदियों तथा 16 स्थानो पर बैराज/डेम के जलस्तर तथा डिस्चार्ज की मॉनिटरिंग की जा रही है। विभाग द्वारा 210 संवेदनशील तथा अतिसंवेदनशील स्थानों का चिन्हीकरण किया गया है। राजस्व विभाग एवं सिंचाई विभाग द्वारा 113 स्थानों पर बाढ़ चौकियों की स्थापना की गयी है, जिसके माध्यम से तत्काल बाढ़ की सूचना का आदान प्रदान ग्राम प्रधानो, स्थानीय व्यक्तियों तथा बाढ नियंत्रण कक्ष में  किया जाता है। इस वर्ष सम्पूर्ण राज्य में वर्तमान तक 69 स्थानों पर नहर तथा 09 स्थानों पर बाढ़ सुरक्षा कार्य क्षतिग्रस्त हुए है, जिसकी छुटमुट  मरम्मत का कार्य तत्काल प्रारम्भ किया जाता है।

राज्य के सभी जनपदों में पेयजल आपूर्ति सुचारू है। जनपद बागेश्वर एवं टिहरी में भारी वर्षा के कारण कुछ क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति बाधित चल रही हैं। विभाग द्वारा पेयजल उक्त जनपदों में टैंकरों के माध्यम से जल आपूर्ति कराई जा रही है। राज्य में वर्तमान तक कुल 63 पेयजल लाईन बांधित हुयी थी, जिसमें से 61 पेयजल लाईन सुचारू कर दी गयी है। शेष 02 पेयजल लाईनों का कार्य गतिमान है।

🚀 यह भी पढ़ें :  भ्रष्टाचार के दलदल में डूबी है भाजपा, चेहरा बदलने से नियत नहीं बदली जा सकती: राकेश राणा

लोक निर्माण विभाग उत्तराखण्ड के अन्तर्गत अवरुद्ध हुए कुल 43 मार्ग ( NH-0, SH-05, MDR-1, ODR-04, VR-33)  एवं PMGSY के अन्तर्गत अवरुद्ध हुए 93 मार्गों को विभागीय एवं प्राइवेट मशीनों द्वारा खोले जाने की कार्यवाही गतिमान है।

वन विभाग द्वारा वन मुख्यालय में स्टेट मास्टर कन्ट्रोल रूम है संचालित 

वन विभाग द्वारा वन मुख्यालय में स्टेट मास्टर कन्ट्रोल रूम का संचालन किया जा रहा है। विगत 24 घण्टों में एस0ई0ओ0सी0 कार्यालय तथा वन मुख्यालय स्थित कन्ट्रोल रूम में विभिन्न स्थानों पर चार वृक्ष उखड़/कगर जाने की घटनाओं की सूचना मिली। ये घटनाएं देहरादून, नैनीताल, उधमसिंह नगर एवं हरिद्वार से प्राप्त हुई। इन सभी स्थलों पर वन विभाग की टीम द्वारा तुरन्त कार्यवाही कर वृक्षों को मार्ग से हटा दिया गया। वन मुख्यालय स्थित कन्ट्रोल रूम  24×7  संचालित किया जाता है, जिसका टोल फ्री न0 18001804141 है।

UJVN  Ltd. द्वारा ग्रिड फेल होने की स्थिति में रिवर साईड गेट उठाने के लिये सप्लाई सुनिश्चित करने हेतु डीजल जनरेटर की  Healthiness सुनिश्चित कर ली गई है। डीजल जनरेटर के लिये 10-15 दिन की आवश्यकतानुसार डीजल की व्यवस्था की गई है। बाँध/बैराज/विद्युत गृहों में उपलब्ध टेलीफोन/मोबाईल कम्यूनिकेशन की  Healthiness सुनिश्चित कर ली गई है। विद्युत गृहों, बाँध बैराजों में सायरन, हूटर्स, आपातकालीन वाहन की उपलब्धता सुनिश्चित करते हुये आपातकालीन दूरभाष सम्पर्क नम्बरों को अपडेट कर लिया गया है। बाँध/बैराज से पानी छोड़ने से पूर्व सायरन बजाया जा रहा है। नदियों में न जाने के सूचना बोर्ड कई स्थानों पर लगाये गये हैं।

🚀 यह भी पढ़ें :  सुझाव: तिलक लगाने और चोटी रखने की परंपरा को पुनर्जीवित करो, सोशल मीडिया पर करें प्रसार

राज्य के विभिन्न जनपदों में NDRF की 06 टीमें हैं तैनात 

NDRF की राज्य के विभिन्न जनपदों में 06 टीम (अल्मोड़ा, पिथौरागढ़, उत्तरकाशी, चमोली, रूद्रप्रयाग एवं देहरादून) तैनात है, जो की आपदा एवं बचाव कार्य के अतरिक्त राज्य में सभी जिलों में समुदायिक को आपदा से निपटने की क्षमता में विकास किया जा रहा है, 15वी0 वाहिनी NDRF  द्वारा राज्य के समस्त जिलों में 35 स्कूल सेफ्टी प्रोग्राम व 18 सामुदायिक जागरूकता कार्यक्रम चलाये गये है। SDRF द्वारा आपदा के दृष्टिगत बचाव एवं रेस्क्यू अभियान संचालित किया जा रहा है।

Print Friendly, PDF & Email

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.