HNBGU केंद्रीय विश्वविद्यालय में CUET के माध्यम प्रवेश संपूर्ण देश के लिए UGC एवं शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के स्तर पर निर्धारित प्रवेश व्यवस्थाः कुल सचिव

HNBGU केंद्रीय विश्वविद्यालय में CUET के माध्यम प्रवेश संपूर्ण देश के लिए UGC एवं शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के स्तर पर निर्धारित प्रवेश व्यवस्थाः कुल सचिव
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

HNBGU केंद्रीय विश्वविद्यालय में CUET के माध्यम प्रवेश संपूर्ण देश के लिए UGC एवं शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के स्तर पर निर्धारित प्रवेश व्यवस्थाः कुल सचिव

कतिपय द्वारा भ्रामक व अपुष्ट सूचनाएं प्रसारित कर विश्वविद्यालय प्रशासन के विरुद्ध बनाया जा रहा द्वेष पूर्ण माहौलः डॉ धीरज शर्मा

विश्वविद्यालय प्रशासन प्रवेश सम्बन्धी समस्याओं के प्रति पूर्ण संवेदनशील है एवं पूर्ण गम्भीरता से इनके निदान हेतु निरन्तर प्रयासरतः डॉ शर्मा

विश्वविद्यालय द्वारा UGC व केंद्र सरकार से छूट हेतु निरन्तर अनथक प्रयास जारी हैं

श्रीनगर गढ़वालः HNBGU केंद्रीय विश्वविद्यालय में CUET के माध्यम प्रवेश संपूर्ण देश के लिए UGC एवं शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के स्तर पर निर्धारित प्रवेश व्यवस्था है एवं प्रवेश में आरक्षण भी केंद्र स्तर पर पूर्व निर्धारित मानकों के अनुरूप देय है तथापि CUET के माध्यम से प्रवेश में आ रही दिक्कतों प्रवेश परीक्षा से वंचित रह गये प्रवेशार्थियों एवं छात्रों की मांग व जनभावना के अनुरूप विश्वविद्यालय द्वारा UGC व केंद्र सरकार से छूट हेतु निरन्तर अनथक प्रयास जारी हैं। यह बात विश्वविद्यालय के कुल सचिव डॉ. धीरज शर्मा ने प्रेस नोट जारी करते हुए कही।

हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय के कुल सचिव डॉ० धीरज शर्मा ने प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि CUET के माध्यम से प्रवेश छूट एवं आरक्षण के सम्बन्ध में कतिपय तत्वों द्वारा लगातार भ्रामक व अपुष्ट सूचनाएं प्रसारित कर विश्वविद्यालय प्रशासन के विरुद्ध द्वेष पूर्ण माहौल बनाया जा रहा है और यह जताने का प्रयास किया जा रहा है कि प्रवेश सम्बन्धित उक्त समस्याओं के निराकरण हेतु विश्वविद्यालय द्वारा कोई प्रयास नही किये जा रहे है।

त्रिपूरा आदि पूर्वोत्तर राज्यों एवं जवाहार लाल नेहरू विश्वविद्यालय का हवाला देते हुए छात्र आन्दोलनों के बीच कई गलत सूचनाएं आग में घी डालने जैसा काम कर रही है। गलत सूचनाओं के आदान-प्रदान से छात्र भ्रमित हो रहे हैं जिससे आन्दोलित छात्र-छात्राओं के आन्दोलन को समाप्त करने के लिए कोई सकारात्मक निर्णय निकलकर नहीं आ रहा है।

कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा लगातार आन्दोलन कर रहे छात्र-छात्राओं के मध्य उक्त विषयों पर स्थिति स्पष्ट करने का प्रयास किया गया है एवं इसी क्रम में छात्रप्रतिनिधियों साथ 30 अगस्त 2023 को वार्ता की गई थी।

वार्ता में छात्र प्रतिनिधियों द्वारा JNU में उत्तराखण्ड के पर्वतीय जिलों के छात्र-छात्राओं को 3 प्रतिशत छूट मिलने की बात कही गई साथ ही त्रिपुरा विश्वविद्यालय में बिना CUET के प्रवेश मिलने की बात कहकर इसी आधार पर हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय प्रशासन के सामने जो मुद्दे रखे उन पर विश्वविद्यालय ने संज्ञान लिया, लेकिन सम्बन्धित विश्वविद्यालयों से सम्पर्क करने पर उक्त सूचनाएं पूरी तरह से निराधार पाई गई।

उन्होंने कहा कि त्रिपुरा विश्वविद्यालय में जहां CUET के आधार पर ही प्रवेश दिये जाने की सूचना प्राप्त हुई है वही जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में मात्र जम्मू कश्मीर राज्य के छात्र-छात्राओं के लिए प्रत्येक विभाग में स्नातक में 5 प्रतिशत तथा स्नातकोत्तर में 3 प्रतिशत सीटों को आरक्षित होने की जानकारी प्राप्त हुई है।

विश्वविद्यालय प्रशासन पुनः स्पष्ट करना चाहता है कि इस केंद्रीय विश्वविद्यालय में CUET के माध्यम प्रवेश संपूर्ण देश के लिए यूजीसी एवं शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के स्तर पर निर्धारित प्रवेश व्यवस्था है एवं प्रवेश में आरक्षण भी केंद्र स्तर पर पूर्व निर्धारित मानकों के अनुरूप देय है तथापि सी०यू०ई०टी० के माध्यम से प्रवेश में आ रही दिक्कतों प्रवेश परीक्षा से वंचित रह गये प्रवेशार्थियों एवं छात्रों की मांग व जनभावना के अनुरूप विश्वविद्यालय द्वारा UGC व केंद्र सरकार से छूट हेतु निरन्तर अनथक प्रयास जारी हैं।

इसी क्रम में विश्वविद्यालय प्रशासन के प्रयासों से UGC द्वारा उक्त विषय पर दिनोंक 01.09.2023 को एक बैठक आयोजित की गयी है साथ ही इन विषयों पर दिनोंकः 02.09.2023 को विश्वविद्यालय विद्या परिषद् तथा दिनाँकः 05.09.2023 को कार्य परिषद् की बैठक भी प्रस्तावित है तद्नुसार विश्वविद्यालय प्रशासन प्रवेश सम्बन्धी उक्त समस्याओं के प्रति पूर्ण संवेदनशील है एवं पूर्ण गम्भीरता से इनके निदान हेतु निरन्तर प्रयासरत है।

उन्होंने विश्वविद्यालय प्रशासन समस्त समाचार पत्र / मीडिया माध्यमों से आन्दोलनरत विद्यार्थियों एवं आमजनमानस से यह अपील करते हुए कहा कि उत्तराखण्ड राज्य के इस एक मात्र केन्द्रीय विश्वविद्यालय की सुवास शैक्षणिक गतिविधियों के संचालन में अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करने का कष्ट करें।

Comment