HNB केंद्रीय विश्वविद्यालय के परिसरों में CUET बाध्यता खत्म हो

406
HNB केंद्रीय विश्वविद्यालय के परिसरों में CUET बाध्यता खत्म हो
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

HNB केंद्रीय विश्वविद्यालय के परिसरों में CUET बाध्यता खत्म हो

विश्वविद्यालय कुलपति तथा शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार को भेजा ज्ञापन

उग्र आंदोलन करने की भी चेतावनी

बादशाहीथौल: केंद्रीय विश्वविद्यालय हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय में स्नातक एवं स्नातकोत्तर कक्षाओं में प्रवेश प्राप्त करने के लिए CUET की परीक्षा देना अनिवार्य कर दिया है। जिससे क्षेत्रीय छात्र छात्राओं को प्रवेश प्राप्त करने में अत्यधिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पहले तो CUET के परीक्षा केंद्र देहरादून, रुड़की, मेरठ दिल्ली आदि जगह रखे गए, जिससे छात्र छात्राओं को परीक्षा केंद्र तक पहुंचने में भी असुविधाओं का सामना करना पड़ा।

उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों की भौगोलिक परिस्थिति अत्यंत विषम है, जिस कारण पहाड़ी छात्र छात्राओं का पूरे देश भर के विद्यार्थियों के साथ शामिल करना औचित्यपूर्ण नहीं है।

विश्वविद्यालय पहाड़ी विद्यार्थियों के हितों की चिंता नहीं कर रहा है। लगातार विश्वविद्यालय प्रशासन से इस बाबत वार्ता हो रही है लेकिन विवि प्रशासन पहाड़ी छात्रों के हितों की कोई चिंता नहीं कर रहा है। विश्वविद्यालय के मैदानी कॉलेजों में CUET की वाद्यता को खत्म करना और पहाड़ी क्षेत्रों के परिसरों में CUET को थोपना विश्वविद्यालय की दोगली नीति को दर्शाता है।

नमामि गंगे संयोजक टिहरी एवं पूर्व छात्र नेता अक्षत पवन बिजल्वाण ने विश्वविद्यालय कुलपति तथा शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार को स्वामी रामतीर्थ परिसर निदेशक प्रो. एए बौड़ाई तथा परिसर प्रशासन की तरफ से पूर्व निदेशक प्रो डीएस कैंतुरा, उप अधिष्ठात्रा छात्र कल्याण प्रो एमएमएस नेगी की मौजूदगी में परिसर प्रशासन के माध्यम से पत्र भेजकर विश्वविद्याल से CUET बाध्यता को खत्म करने तथा वर्तमान सत्र में बिना CUET दिए छात्र छात्राओं को भी प्रवेश दिए जाने के लिए आग्रह किया है, उन्होंने अपने पत्र के माध्यम से मांग न माने जाने पर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों के साथ एक उग्र आंदोलन करने की भी चेतावनी दी है।

उन्होंने स्पष्ट कहा है कि विश्वविद्यालय प्रशासन की तानाशाही को अब कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पहाड़ के छात्र छात्राओं का अहित अब और नहीं सहा जायेगा।।

ज्ञापन भेजते समय समर्थन में वर्तमान छात्र संघ अध्यक्ष दीपक गुंसोला, अमन सजवान, छात्र नेता हिमांशु डॉडियाल, कृष्णा नेगी, अनुज रावत, युवराज आदि शामिल रहे।।

Comment