घनसाली विधान सभा को पिछड़े वर्ग में शामिल करने की कवायद  शुरू,अधिवक्ताओं का शिष्ट मण्डल उपजिलाधिकारी से मिला

घनसाली विधान सभा को पिछड़े वर्ग में शामिल करने की कवायद  शुरू,अधिवक्ताओं का शिष्ट मण्डल उपजिलाधिकारी से मिला


 

play icon Listen to this article

घनसाली विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत निवासरत- बकरवाल, गंगवाल, भिलंगवाल एवं गंगाड़ि समुदाय को अन्य पिछड़ा वर्ग में शामिल किए जाने से संबंधित सर्वेक्षण कार्य एवं ग्राम पंचायतों की आम बैठक दिनांक 26-4- 2022 से 23-5- 2022 तक रोस्टर के अनुसार आयोजित की जाएंगी। जिसमें सम्बंधित, पंचायत मंत्री और राजस्व उप निरीक्षक अनिवार्य रूप से उपस्थित रह कर, निर्धारित सर्वेक्षण आख्या प्रपत्र -1 पर उपरोक्त समुदायों के पिछड़ा वर्ग में सम्मिलित किए जाने ग्राम सभावार अभिलेख तैयार करेंगे। यह जानकारी उप जिला अधिकारी श्री कृष्ण नारायण गोस्वामी ने अधिवक्ताओं के शिष्टमंडल के भेंट करने पर दी।

लोकेंद्र जोशी@ घनसाली

उप जिलाधिकारी गोस्वामी ने शासन द्वारा भेजे गए पत्र का हवाला देते हुए कहा कि ,विधानसभा घनसाली के विकासखंड भिलंगना एवं जाखणीधार विकास खण्ड के समुदायों को पिछड़ा वर्ग में सम्मिलित किए जाने हेतु, भिलंगना विकास समिति (पंजीकृत) दिल्ली, सचिव श्री शिव सिंह राणा के द्वारा, भारत सरकार को लिखे गए पत्र पर प्रधानमंत्री कार्यालय के पत्र उत्तराखंड शासन देहरादून, समाज कल्याण विभाग के द्वारा जिलाधिकारी टिहरी गढ़वाल के आदेश दिये जाने पर, खंड विकास अधिकारी भिलंगना की अध्यक्षता में स्कूटनी समिति का गठन किया गया। जिसमें सदस्य सचिव, सहायक समाज कल्याण अधिकारी भिलंगना एवं सदस्य तहसीलदार घनसाली को नामित किया गया ।जबकि खंड विकास अधिकारी भिलंगना के द्वारा श्रीमती रीना क्षेत्रीय युवा कल्याण अधिकारी भिलंगना को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया। इस बात की जानकारी उप जिलाधिकारी घनसाली के.एन.गोस्वामी के द्वारा घनसाली के अधिवक्तागणों के शिष्टमंडल के मुलाकात होने पर दी गई।

घनसाली विधान सभा को पिछड़े वर्ग में शामिल करने की कवायद  शुरू,अधिवक्ताओं का शिष्ट मण्डल उपजिलाधिकारी से मिलाउप जिलाधिकारी के .एन.गोस्वामी ने कहा कि विधानसभा घनसाली को पिछड़ा वर्ग में शामिल किए जाने हेतु सर्वेक्षण किया जाएगा। और ग्राम पंचायतों से सुझाव मांगे गए हैं।

अधिवक्ता गणों के शिष्टमंडल ने सभी ग्राम पंचायतों एवं अन्य जनप्रतिनिधियों, शिक्षकों पत्रकारों तथा व्यापारियों से अनुरोध किया कि, घनसाली क्षेत्र को पिछड़ा वर्ग में सम्मिलित किए जाने हेतु अपने अपने स्तर से तर्कसंगत सुझाव स्कूटनी समिति के समक्ष रखें और सभी ग्राम पंचायतें, अपनी ग्राम पंचायतों से इस संबंध का प्रस्ताव पारित कर समिति को दें।

अधिवक्ता गणों ने संविधान की धारा 15 (4 )का उल्लेख करते हुए कहा कि विधानसभा घनसाली को पिछड़ा वर्ग में शामिल किए जाने के पर्याप्त आधार हैं और विधानसभा घनसाली क्षेत्र को प्रतापनगर विधानसभा क्षेत्र की भाँति पिछड़ा वर्ग में घोषित किया जाना आवश्यक है।
अधिवक्ता गण के शिष्टमंडल में श्री प्रेम सिंह नेगी, भाजमोहन श्रियाल, सुशील देव, सुशील देव सुरीरा, लोकेंद्र जोशी, पुरुषोत्तम बिष्ट, बद्रीनाथ केसर सिंह गहरवार, मस्तराम आदि शामिल थे।