गजा तहसील के कुजणी क्षेत्र में गुलदारों के दिखाई देने से लोगों में दहशत, गुलदारों को पकड़ने की मांग

धारअकरिया पट्टी के ग्राम खांड में बाघ हुआ कमरे में कैद, तीन बकरियां मारी, ग्रामीणों में दहशत, आला कर्मियों ने नहीं उठाया फोन
play icon Listen to this article

गजा तहसील की कुजणी पट्टी के अनेक गांवों में रात्रि व दोपहर में भी गुलदार के दिखाई देने से क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ता रमेश नयाल ने आज तहसीलदार गजा के माध्यम से जिलाधिकारी टिहरी गढ़वाल नई टिहरी को ज्ञापन भेजकर पिंजरे लगाकर गुलदारों को पकड़ने की मांग की है।

[su_highlight background=”#880e09″ color=”#ffffff”]सरहद का साक्षी, गजा[/su_highlight]

सामाजिक कार्यकर्ता रमेश नयाल ने अपने ज्ञापन में कहा है कि कुजणी क्षेत्र के गांव बेरनी, अदवाणी, रौंदेली, तमियार, ओडाडा, पसर, मठियाली, मजियाडी में गुलदार लगातार दिखाएं दे रहे हैं। इससे पहले बेरनी व पसर गांवों में एक महिला व एक पुरुष को गुलदार मार चुका है। उसके बाद पसर गांव में प्रशासन के द्वारा शूटर तैनात कर गुलदार को मार डाला गया था लेकिन उसके बाद गजा के निकट दो गुलदार दिखाई देने तथा फिर बेरनी के निकट दिन में ही गुलदार दिखाई दिया।

गजा तहसील के कुजणी क्षेत्र में गुलदारों के दिखाई देने से लोगों में दहशत

पक्षियों की चहचहाहट से गुलदार होने की आशंका को भांपते हुए जब देखा गया तो गुलदार झाड़ियों में छिपा दिखाई दिया। शोरगुल सुनकर गुलदार भाग गया। मठियाली में भी एक माह पहले एक लड़की पर गुलदार ने हमला कर घायल किया था, जिसका इलाज एम्स ऋषिकेश में चल रहा है। बेरनी गांव के रमेश नयाल तथा तमियार गांव के रमेश रावत का कहना है कि छात्रों का स्कूल में आना जाना बंद हो रहा है तथा जंगल से घास चारा पत्ती लाने वाली महिलाओं को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

ज्ञापन में कहा गया है कि यदि समाधान नहीं हुआ तो तहसील गजा में सभी गांवों के लोग धरना प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे। इससे पहले गौंसारी गांव की महिलाओं ने भी बन विभाग व प्रशासन को पत्र लिखा है। स्मरण रहे कि पसर गांव में मतदान के दिन गुलदार ने जब अधेड़ व्यक्ति को निवाला बनाया था तो मतदाता मतदान करने नहीं गए थे। प्रगतिशील जन विकास संगठन गजा ने भी मांग का समर्थन किया है।