दुर्दशा का शिकार होकर खतरों को न्यौता दे रहा है गजा नकोट मोटर मार्ग, जिला प्रशासन व PWD  ले संज्ञान

दुर्दशा का शिकार होकर खतरों को न्यौता दे रहा है गजा नकोट मोटर मार्ग, जिला प्रशासन व PWD  ले संज्ञान
play icon Listen to this article

जिला मुख्यालय नई टिहरी समेत जिले के प्रमुख शहर चम्बा को जोड़ने वाला प्रमुख गजा नकोट मोटर मार्ग दुर्दशा का शिकार होकर विभिन्न स्थानों पर खतरों को न्यौता दे रहा है। लोक निर्माण विभाग इस मार्ग के सुधारीकरण के प्रति असंवेदनशील प्रतीत होता है।

यह मोटर मार्ग गजा से लेकर नकोट दिवाड़ा पाली तक विभिन्न स्थानों में पेंटिंग उखड़ जाने व बरसाती पानी से गढ्ढे पड़ जाने के कारण अपनी दुर्दशा का रोना रोता आवाजाही करने वाले वाहन चालकों को खतरे का न्यौता दे रहा है। मोटर मार्ग पर आवाजाही करने वाले दुपहिया वाहन चालक कई स्थानों पर फिसल जाते हैं। मोटर मार्ग की पेंटिंग जगह-जगह उखड़कर सड़क गढ्ढों में तब्दील हो चुकी है। वर्तमान बरसाती मौसम में जगह-जगह सड़क की रेत आदि एकत्रित होकर वाहनों के फिसलने व दुर्घटनाग्रस्त होने का कारण बन जाती है।

लोक निर्माण विभाग नरेन्द्रनगर व चम्बा के बैसाखी पर टिके इस मोटर मार्ग की सुध विभागों द्वारा केवल मलवा साफ करने के अलावा मार्ग के सुधारीकरण व गुणवत्ता युक्त डामरीकरण को लेकर नहीं ली जाती है। स्थानीय प्रतिनिधियों द्वारा समय-समय पर दिवाड़ा नामक गदेरे में पुलिया निर्माण की मांग की जाती रही है। क्योंकि इस स्थान पर बरसात के समय पानी ज्यादा बढ़ जाने के कारण छोटे वाहनों व आवाजाही करने वाले स्कूल बच्चों के बहने का खतरा बना रहता है।

रानीचौरी नकोट मार्ग पर दिवाड़ा और पाली में खतरों की अनदेखी कर रहा है लोक निर्माण विभाग

जन-प्रतिनिधियों की मांग के बाबजूद भी इस स्थान पर पुलिया निर्माण की अभी तक कोई कार्यवाही लोक निर्माण विभाग द्वारा नहीं की गई है।

यही नहीं जिला मुख्यालय को नकोट से जाने वाला नकोट भागीरथीपुरम नई टिहरी मोटर मार्ग भी विभिन्न स्थानों पर ऊबड़-खाबड़ स्थिति में होकर दुर्घटनाओं को दावत देता आ रहा है। यह मोटर मार्ग प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत निर्मित है।

प्रगतिशील जन विकास संगठन गजा टिहरी गढ़वाल के अध्यक्ष दिनेश प्रसाद उनियाल एवं सिविल सोसायटी नकोट के अध्यक्ष विक्रम सिंह रावत ने लोक निर्माण विभाग, जिला प्रशासन स्थानीय विधायक किशोर उपाध्याय से इन मोटर मार्गों के सुधारीकरण एवं दिवाड़ा में पुलिया निर्माण हेतु संज्ञान लेने का आग्रह किया है। ताकि बरसाती सीजन में संभावित खतरों पर अंकुश लगाया जा सके और आवाजाही करने वाले नागरिकों को असामायिक दुर्घटनाओं से बचाया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here