सोमवार , जुलाई 4 2022
Breaking News
InShot 20220618 154547103

बुरी खबर: उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध लोक गायक एवं फिल्म निर्देशक गुंजन डंगवाल नहीं रहे, संगीत जगत को अपूरणीय क्षति

play icon Listen to this article

उत्तराखण्ड संगीत जगत के लिए एक हृदय विदारक एवं बुरी खबर सामने आयी है। मिली जानकारी के अनुसार, पहाड़ी अ-कापेला, नंदू मामा की स्याली, ऊडांदू भौंरा जैसे शानदार गीतों को पिरोने वाले गुंजन डंगवाल का चंडीगढ़ के पास पंचकूला में एक गंभीर सड़क हादसे में निधन हो गया है। उनके निधन होने से संगीत जगत में शोक की लहर दौड़ पड़ी।

उनके पिता श्री कैलाश डंगवाल, क्यारी देहरादून में हैडमास्टर के पद पर कार्यरत हैं। बेटा गुंजन डंगवाल उत्तराखण्ड के प्रसिद्ध लोक गायक एवं फिल्म निर्देशक थे और उत्तराखण्ड राज्य की संगीत की धरोहर थे।
बताया जा रहा है कि गुंजन डंगवाल बीती रात को देहरादून से चंडीगढ़ अपने किसी करीबी मित्र से मिलने जा रहे थे। लेकिन उनकी किस्मत में तो कुछ और ही होना लिखा था। जैसे ही वह पंचकूला के पास पहुंचे एक भीषण हादसा हो गया। इस हादसे में उनकी मौके पर ही मौत हो गयी। गुंजन के निधन से उत्तराखण्ड के संगीत जगत को एक बड़ा झटका लगा है।

🚀 यह भी पढ़ें :  बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे टिहरी रियासती जनक्रांति नायक अमर शहीद श्रीदेव सुमन
🚀 यह भी पढ़ें :  डीएम इवा आशीष ने धनोल्टी में राष्ट्रीय रूर्बन क्लस्टर के अंतर्गत चल रहे निर्माण कार्यो का किया स्थलीय निरीक्षण

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रदेश के युवा लोकगायक एवं संगीत निर्देशक गुंजन डंगवाल के सड़क हादसे में निधन पर शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री श्री धामी ने ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति तथा शोक संतप्त परिजनों को इस दुःख को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।

Print Friendly, PDF & Email

Check Also

जयंती विशेष: महाकवि नागार्जुन की कविताएं गरीब, असहाय, किसान, मजदूर, शिल्पी, काश्तकार और समाज के हर वर्ग की कथा व्यथा को वर्णित करती हैं

जयंती विशेष: महाकवि नागार्जुन की कविताएं गरीब, असहाय, किसान, मजदूर, शिल्पी, काश्तकार और समाज के हर वर्ग की कथा व्यथा को वर्णित करती हैं

Listen to this article आज महाकवि नागार्जुन की जयन्ती है। व्यस्तता के बाबजूद लिखना लाजिमी …

error: Content is protected !!