विश्व होम्योंपैथिक दिवस के अवसर पर शांति होम्योंपैथिक हास्पिटल एंड रिसर्च सेंटर देहरादून में चलाया जागरूकता कार्यक्रम

1
play icon Listen to this article

शांति होम्योंपैथिक हास्पिटल एंड रिसर्च सेंटर  देहरादून  में विश्व होम्योंपैथिक दिवस के अवसर पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजन किया गया। केन्द्र संचालिका डाॅ. सीमा कौशिक ने बताया कि होम्योपैथी के जनक डा. क्रिस्टियन फ्रेडरिक सेमुअल हेनमन के 267 जन्मदिवस के उपलक्ष्य में होम्योपैथी के बारे में  लोगों को जागरूक किया जाना आवश्यक है।

उन्होंने होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति से जुड़ी भ्रांतियों और उनकी वास्तविकताओं को लेकर लोगों के प्रश्नों के जवाब भी दिए तथा उन्होंने कहा कि होम्योपैथी किसी भी अन्य पद्वति का विकल्प नहीं, बल्कि एक सम्पूर्ण चिकित्सा विज्ञान है। इसका खास यह कि होम्योपैथिक दवाएं रोगी की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है और इसके साइड इफैक्ट भी नहीं हैं। केन्द्र संचालक डा. सीमा कौशिक ने बताया कि डा0 क्रिश्चियन फ्रेड्रिक होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति के जनक ने संपूर्ण विश्व को स्वास्थ्य का मंत्र दिया है एवम् कार्यक्रम में  होम्योपैथी को लेकर विस्तार से वार्ता हुई।

डा0 सीमा कौशिक ने कहा कि लोगों को होम्योपैथी में अभी भ्रांति हैं, उसे दूर करना होगा। इसमें एैलोपैथी के मुकाबले बिना नुकसान बीमारी का सटीक इलाज मौजूद है इस कार्यक्रम में डा. सीमा कौशिक एउपस्तिथ विशेषज्ञों व् गणमान्य लोंगो  ने अपने अनुभव व विचार रखे।

केन्द्र संचालिका डा. सीमा कौशिक ने बताया कि होम्योपैथी के जनक डा. क्रिस्टियन फ्रेडरिक सेमुअल हेनमन के 267 जन्मदिवस   को होम्योपैथी के संबंध में लोगों को जागरूक किया जाना आवश्यक है। उन्होंने होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति से जुड़ी भ्रांतियों और उनकी वास्तविकताओं को लेकर लोगों के प्रश्नोंके जवाब भी दिये
केन्द्र संचालिका डा. सीमा कौशिक ने कहा कि बिना वैकल्पिक एवं परम्परागत औषधियों को बढ़ावा दिए सार्वाभौमिक स्वास्थ्य के लक्ष्य को प्राप्त नहीं किया जा सकता और वैकल्पिक चिकित्सा पद्धतियों में विश्व में होम्योपैथी का प्रमुख स्थान है।

उन्होंने कहा कि होम्योपैथी किसी का भी विकल्प नहीं, बल्कि एक सम्पूर्ण चिकितसा विज्ञान है। केन्द्र संचालक डा. सीमा कौशिक ने बताया कि कैंप में न सिर्फ होम्योपैथिक, बलिक दंत व सहित विभिन्न विशेष चिकित्सक मौजूद रहे। सेंटर की संचालिका डा. सीमा कौशिक ने बताया कि सैम्यूल हैनीमेन को होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति का जनक माना जाता है। उनके जन्म दिवस को होम्योपैथिक दिवस के रूप में बनाया जाता है। उन्होंने बताया इस अवसरपर होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति से जुड़ी भ्रांतियों तथा उसकी वास्तविकता पर गहन चर्चा भी हुई।

होम्योपैथी की बताई खूबियां

डा0 सीमा कौशिक होम्योपैथिक एमडी ने कहा कि डा0 क्रिश्चियन फ्रेड्रिक होम्योपैथी चिकित्सा पद्धति के जनक हैं, उन्होंने संपूर्ण विश्व को स्वास्थ्य का मंत्र दिया, डा0 सीमा कौशिक ने कहा कि लोगों को होम्योपैथी में अभी भ्रांति हैं, उसे दूर करना होगा, इस मौके पर डॉक्टर सारस्वत गोविंद पेटवाल, अनुज शील विनोद शर्मा नेहा जैन सुप्रिया माथुर रुचिरा रावत  वंशिका नौटियाल  सचिन करणवाल पल्लवी चावला भूपिंदर कौर आदि मौजूद थे।