विधानसभा चुनाव 2022ः पिपलोगी गांव को सड़क मार्ग से नहीं जोड़ा तो चुनाव का वहिष्कार करेंगे ग्रामीण

विधानसभा चुनाव 2022
play icon Listen to this article

ग्राम पंचायत पिपलोगी के ग्रामीणों ने गांव को सड़क मार्ग से न जोड़े जाने की मांग को लेकर आगामी विधान सभा चुनावों के वहिष्कार की चेतावनी दी है।

[su_highlight background=”#091688″ color=”#ffffff”]सरहद का साक्षी, लम्बगांव[/su_highlight]

ग्रामीणों का कहना है कि गांव के ग्रामीणों को 20 सालो से सरकारें बेवकूफ बनाती आ रही हैं। जिससे त्रस्त होकर आज ग्राम पंचायत के लोगों ने ग्राम प्रधान श्रीमती प्रियंका देवी की अध्यक्षता में बैठक कर निर्णय लिया कि अब यदि 20 दिसंबर तक ग्राम पंचायत पिपलोगी को सड़क मार्ग से नहीं जोड़ा गया तो वह 24 दिसंबर 2021 को नगर पंचायत लंबगांव में महेड देवता मन्दिर के पास धरना प्रदर्शन व चक्का जाम करेंगे उसके बाद भी यदि सरकार नहीं जागी और गांव को सड़क मार्ग से नहीं जोड़ा जाता तो आने वाले 2022 के विधानसभा चुनाव का संपूर्ण ग्राम पंचायत विरोध करेगी व वहिस्कार करेगी जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी जो पिछले 20 वर्षों से ग्राम पंचायत पिपलोगी के ग्रामीणों को बेवकूफ बनाने का काम कर रही है।

[irp]ग्रामीणों का आरोप है कि हद तो तब हो गई है जब उत्तराखंड सरकार के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 8 नवंबर 2020 को डोबरा चांठी पुल से ग्राम पंचायत को सड़क मार्ग से जोड़ने की घोषणा की थी लेकिन 1 साल बीत जाने के बाद भी उस पर कोई कार्यवाही नहीं हुई इसके कारण ग्राम पंचायत के लोगों ने त्रस्त होकर धरना प्रदर्शन चक्का जाम व चुनाव बहिष्कार का निर्णय लेने को मजबूर होना पड़ा।