जलसंग्रहण क्षेत्रों में डम्प किया जा रहा है रानीचौरी का सारा कूड़ा, आस पास शराब की बिक्री भी आशंका 

जलसंग्रहण क्षेत्रों में डम्प किया जा रहा है रानीचौरी का सारा कूड़ा, आस पास शराब की बिक्री भी आशंका 


 

play icon Listen to this article

रानीचौरी में नेपाली एवं विहारी मजदूरों द्वारा रानीचौरी से जगधार (बाड्यों) की तरफ जाने वाले रास्ते पर कूड़ा-करकट फेंका जा रहा है, जिसमें अधिकतर शराब की बोतलें, प्लास्टिक पन्नीयां, घर का बासी खाना इत्यादि, रास्ते पर शराब की खाली बोतलें बिखरी हुई है, इससे लगता है कि यहां आस पास शराब की बिक्री भी हो रही है, पिछले 4 सालों से लगातार मैं इन मजदूरों से कह रहा हूं कि इस सार्वजनिक रास्ते पर कूड़ा न फेंके, लेकिन ये मजदूर इतने ढीठ हो चुके हैं इन पर बोलने का कोई असर ही नहीं पड़ता है, मकान मालिकों को भी इसका कोई फर्क नहीं पड़ता है कि कि इनकी वजह से स्वच्छ भारत मिशन पर ग्रहण लग रहा है, वह भी रानीचौरी जैसी जगह जहां पर भरपूर सामाजिक कार्यकर्ता, 3 गांव के प्रधानों का नेतृत्व, इतना कुछ होते हुए भी रानीचौरी गंदगी में तब्दील हो रही है, रानीचौरी का सारा कूड़ा जलसंग्रहण क्षेत्रों में डम्प किया जा रहा है।

सरहद का साक्षी, गोपाल बहुगुणा @रानीचौरी

अब सवाल इस बात का है कि सरकार स्वछता जैसे महत्वपूर्ण विषय पर देश भर में जागरूकता अभियान चला रही है, पर धरातल पर उसके कुछ खास परिणाम देखने को नहीं मिल रहे हैं।