विश्वकर्मा जयंती पर हम भी एक संकल्प ले सकते हैं कि इस मानव तन से परमार्थ का कर्म करें

विश्वकर्मा जयंती पर हम भी एक संकल्प ले सकते हैं कि इस मानव तन से परमार्थ का कर्म करें

सरहद का साक्षी, @ ज्योतिषाचार्य हर्षमणि बहुगुणा 

*आज वामन अवतार, विश्वकर्मा जयंती एवं सूर्य का कन्या राशि में प्रवेश (संक्रांति) है। ऐसे सुअवसर पर हम भी एक संकल्प ले सकते हैं कि इस मानव तन से परमार्थ का कर्म करें।*
*यह चिन्तन करते हुए आगे बढ़ें कि संसार से मिली हुई सामग्री को अपनी मानकर सेवा में लगाने से अभिमान आता है। अतः सेवा के लिए सामग्री की नहीं, हृदय की आवश्यकता है। कसौटी कस कर देखा जाय तो पता चलता है कि सेवा का तो बहाना है। सम्भवतः अच्छाई के चोले में बुराई भी रहती है। ‘कालनेमि जिमि रावन राहू।’ उपर अच्छाई का चोला व भीतर बुराई भरी हो। यही बुराई सबसे भयंकर होती है, जो बुराई प्रत्यक्ष होती है वह इतनी खतरनाक नहीं होती, जितनी यह। दूसरे के दु:ख से दु:खी व सुख से सुखी होकर ही सेवा की जा सकती है।

यह भी पढ़ें 👉🏿  शुक्र ग्रह के शुभाशुभ परिणाम और उपाय

यह बात अति आवश्यक व महत्वपूर्ण भी है कि दूसरों के दु:ख से दुखी होने वाला अपने दु:ख से कभी दुखी नहीं होता और दूसरों के सुख से सुखी होने वाला अपने सुख के लिए कभी भी संग्रह नहीं करता।

अतः महिमा के लिए नहीं आत्म शान्ति के लिए समाज की सेवा करने की आवश्यकता है। तो आइए! इस आश्विन मास में जिसमें आज श्रवण द्वादशी है व आज विष्णु श्रृंखल योग है के सूर्योदय से परदु:ख से द्रवित होकर परमार्थ करने का फैसला लिया जाय। यही पुण्य है, ऐसा करने से हमारी-आपकी मानवता नित दूनी बढ़ेगी।

Print Friendly, PDF & Email
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four + three =

15 नवम्बर तक सभी निर्माण कार्य पूरा करें कार्यदायी संस्थाएंः डॉ. धनसिंह रावत Previous post 15 नवम्बर तक सभी निर्माण कार्य पूरा करें कार्यदायी संस्थाएंः डॉ. धनसिंह रावत
विश्वकर्मा दिवस विशेष: हिंदू धर्म, संस्कृति और साहित्य में प्रकृति के प्रत्येक अवयव का महत्व है Next post विश्वकर्मा दिवस विशेष: हिंदू धर्म, संस्कृति और साहित्य में प्रकृति के प्रत्येक अवयव का महत्व है
Close
error: Content is protected !!