आपात स्थिति से निपटने को सभी संशाधन सरकार अपने पास रखे

चुनौतियां: चुनावी वर्ष में सीएम धामी किन-किन मसलों पर भरेंगे हामी?

सरहद का साक्षी: रिपोर्ट- एस. एम. बिजल्वाण,

 देहरादून: जब भी देश में कोई भी आपात स्थिति पैदा होती है, तो सरकार देश हर संसाधन, मानव शक्ति का उपयोग इससे निपटने के लिये कर सकती है, कोरोना महामारी से आपात स्थिति जैसी समस्या पैदा हो गई, राज्य सरकार सभी सरकार गैर सरकारी  अस्पताल , नर्सिंगरूम, को अधिगृहित कर इन्हें प्रशासन अपने कब्जे लें और प्रशासक तैनात करें, इनमें कार्यरत सभी चिकित्सक, व स्वास्थ्यकर्मियो को भी स्थिति नियंत्रण में आने तक प्रशासन के अधीन कार्य करना होगा।
राज्य में कोरोना जांच केन्र्दो, आक्सीजन बनाने व सप्लाई करने वाले औषधी भन्डार, उपकरणो के विक्रेताओ को नियंत्रण में लेकर आम जनता की जान बचाने उपयोग कर सकती है भले ही इसकी कीमत भी संबंधित को देनी होगी। लेकिन लूटखसूट जो जांच, दवा, अन्य उपकरणो के नाम से हो रही है, उस पर रूकावट लगेगी। वैक्सीनेशन की गति बढाने के लिये गांव स्तर कार्यक्रम बनाना होगा।

सरकार सभी सचिव स्तर के अधिकारियों को प्रभावी नियंत्रण के लिये फील्ड में उतारना चाहिये। सभी राजनैतिक पार्टियों का भी इस सहयोग लें, पूरे राज्य में 15 दिन का पूर्ण लाॅकडाउन लगाया जाय।

जान है तो जहान हैं, रोजगार नौकरी की बात तभी कर पायेगें, जब जीवन रहेगा।जिस तरह निर्वाचन सम्पन्न करने लिये टीमें बनाई जाती है, सेक्टर व जोनल मजिस्ट्रेट तैनात होते है, वैसे इस राष्ट्रहित में कर्मियों का राहत अवधि के लिये बीमित किये जायं, ताकि वे लग्न व निष्टा के साथ कार्य कर सके, लेकिन लापरवाही व पीडित की अनदेखी क्षम्य नहीं होगी।

Print Friendly, PDF & Email
Share