ऋषिकेश महाविद्यालय होगा श्री देव सुमन विवि का परिसर

शासन ने जारी किये परिसम्पत्ति हस्तांतरण के आदेश

उच्च शिक्षा मंत्री की सख्ती के बाद हरकत में आया शासन और विवि प्रशासन

आगामी सत्र से परीक्षाओं के केन्द्रीय मूल्यांकन का केन्द्र होगा ऋषिकेश कैम्पस

देहरादून: श्री देव सुमन विश्वविद्यालय को राजकीय महाविद्यालय ऋषिकेश का स्वामित्व दे दिया है। इस संबंध में सरकार ने शासनादेश जारी कर दिया है। राजस्व अभिलेखों में दर्ज महाविद्यालय की चल-अचल संपत्ति अब श्री देव सुमन विश्वविद्यालय के अधीन हो जायेगी। हालांकि सरकार एक वर्ष पहले ही राजकीय महाविद्यालय ऋषिकेश को श्री देव सुमन विश्वविद्यालय का कैम्पस घोषित कर चुकी थी। लेकिन विश्वविद्यालय और शासन के ढुलमुल रवैये के चलते परिसंपत्ति हस्तांतरण की कार्यवाही कागजों में उलझी रही।

वहीं विभागीय मंत्री डा. रावत ने गत सप्ताह विश्वविद्यालय की समीक्षा बैठक में कड़ा रूख अपनाते हुए शासन और विवि के अधिकारियों को तीन दिन के भीतर ऋषिकेश कैम्पस को विश्वविद्यालय के हैंड ओवर करने के निर्देश दिये थे। उन्होंने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिये थे कि वह परिसम्पत्ति हस्तांतरण में लेटलतीफी बर्दाश्त नहीं करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने विश्वविद्यालय प्रशासन को ऋषिकेश कैम्पस से शैक्षणिक और अकादमिक गतिविधियां संचालित करने के निर्देश भी दिये थे।

उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत के कड़े रूख के बाद शासन ने ऋषिकेश कैम्पस के स्वामित्व को श्री देव सुमन विश्वविद्यालय के अधीन करने के आदेश पारित कर दिये हैं। उच्च शिक्षा मंत्री डा. रावत ने बताया कि विश्वविद्यालय को ऋषिकेश परिसर सौंपने के लिए अधिकारियों को तत्काल कार्यवाई करने के निर्देश दिये गये थे। जिस पर शासन ने परिसम्पत्ति हस्तांतरण के आदेश दे दिये हैं।

विश्वविद्यालय अब ऋषिकेश परिसर को अपने कब्जे में लेगा और यहां से शैक्षिक और अकादमिक गतिविधियां संचालित करेगा। वहीं उन्होंने कहा कि नए परिसर में विश्वविद्यालय द्वारा ढांचागत व्यवस्थाओं को दुरूस्त किया जायेगा। उन्होंने बताया कि ऋषिकेश परिसर को परीक्षाओं के केन्द्रीय मूल्यांकन का केन्द्र बनाया गया है। इससे छात्र-छात्राओं की परीक्षा संबंधी दिक्कतें दूर हो जायेगी।

Print Friendly, PDF & Email
Share