September 2020 - सरहद का साक्षी
विभिन्न योजनाओं समेत नई बैंक शाखाओं के खोले जाने बाबत डॉ. रावत ने अधिकारियों से प्रगति रिपोर्ट तलब की
विभिन्न योजनाओं समेत नई बैंक शाखाओं के खोले जाने बाबत डॉ. रावत ने अधिकारियों से प्रगति रिपोर्ट तलब की

Dr. Rawat summoned the progress report from the officials regarding opening of new bank branches including various schemes सरहद का साक्षी देहरादून: सहकारिता, उच्च शिक्षा, दुग्ध उत्पादन एवं प्रोटोकाॅल (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने आज विधानसभा स्थित सभा कक्ष में सहकारिता विभाग की समीक्षा बैठक ली। बैठक में बहुउद्देशीय पैक्स कम्प्यूटराइजेशन, ह्यूमन रिसोर्स पाॅलिसी,  इंश्योरेन्स और री-फाइनेंशिंग, पंडित दीन दयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना सहित नवीन बैंक शाखाओं के खोले जाने के संबंध में विभागीय…

Read More

टिपरी में 200 किलोवाट क्षमता का सोलर प्लांट स्थापित कर आमोद पंवार ने अपनाया स्वरोजगार, सीएम ने किया उद्घाटन
Amod Panwar adopted self-employment by setting up 200 kw solar plant at Tipri, CM inaugurated

Amod Panwar adopted self-employment by setting up 200 kw solar plant at Tipri, CM inaugurated सरहद का साक्षी उत्तरकाशी: सोलर स्वरोजगार योजना में 10 हजार युवाओं को स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है। राज्य में ऊर्जा उत्पादन के नवाचारी व हरित तरीकों को बढ़ावा दिया जा रहा है। इसी के तहत उत्तरकाशी निवासी युवा उद्यमी श्री आमोद पंवार ने अपने गांव इंद्रा टिपरी में 200 किलोवाट क्षमता के सोलर प्लांट को स्थापित किया है। औसतन…

Read More

मुख्यमंत्री रावत ने किया प्रदेश के पहले पिरूल से विद्युत उत्पादन परियोजना का लोकार्पण
Chief Minister Rawat inaugurated power generation project from state's first Pirul

Chief Minister Rawat inaugurated power generation project from state’s first Pirul सरहद का साक्षी उत्तरकाशी: मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने जनपद उत्तरकाशी के विकास खण्ड डुण्डा के ग्राम चकोन, धनारी में 25 लाख लागत की 25 किलोवाट क्षमता की पिरूल से विद्युत उत्पादन की पहली परियोजना का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि पर्यावरणीय चक्र को आग से बचाने के लिए यह परियोजना बेहद उपयोगी होगी। जंगलों में आग लगने के कारण जहां अनेक पेड, औषधीय…

Read More

घर पर नि:शुल्क ज्योतिष पाठशाला लगाकर ग्रामीण जिज्ञासुओं को सुशिक्षा प्रदान करते थे ज्योतिष सागर तारा नन्द बहुगुणा
By providing free astrology school at home, the villagers used to provide education to the astrologers

प्रस्तुति: हर्षमणि बहुगुणा सरहद का साक्षी “हमारे गांव की महिमा का वर्णन बहुत कठिन है, परन्तु कतिपय विद्वत् विभूतियों को श्रृद्धांजलि दिए बिना मन को शांति नहीं मिलती है। यह एक प्रयास है, जिसमें गांव की अनुपम विभूतियां आने वाली पीढ़ी को उपकृत भी करेंगी व अपने पग  चिन्हों पर अग्रसर होने की प्ररेणा भी प्रदान कर अपना आशीर्वाद आने वाली पीढ़ी पर बना कर रखेंगे। इस श्रृंखला में ज्योतिष के सागर गांव के सयाना (सयाणा) प्रात: स्मरणीय पूज्य…

Read More

ज्योतिष के प्रकाण्ड पण्डित व निष्काम कर्मयोगी के साथ ग्रामवासियों के अनन्य सहयोगी थे सत्य कृष्ण बहुगुणा
Sathya Krishna Bahuguna was the exclusive associate of the villagers with astrological scholar Pandit and Nishkam Karmayogi

प्रस्तुति: हर्षमणि बहुगुणा, सरहद का साक्षी नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावक:। न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुत:।। “भगवान श्री कृष्ण ने गीता में आत्मा को अजर-अमर कहा है, है भी तो? अजर अमर,  केवल काया परिवर्तन है आत्मा का। इस सुग्राम में इस तरह के अनेकों मनीषियों, विभूतियों का आगमन हुआ जिन्होंने अपने कर्म व योग के द्वारा गांव के कर्ण धारों के भविष्य को सुदृढ़ बनाने के लिए एक मजबूत बुनियाद रखी। हम इतने में ही अपने…

Read More

पवित्र गंगा नदी को निर्मल और अविरल बनाने के लिए प्रधानमंत्री ने उत्तराखंड में 6 विभिन्न बड़ी परियोजनाओं का किया उद्घाटन
Prime Minister inaugurated 6 different mega projects in Uttarakhand to make the holy Ganges river clean and continuous

सरहद का साक्षी नई दिल्ली: प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से नमामि गंगे मिशन के अंतर्गत उत्तराखंड में 6 बड़ी विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया। नमामि गंगे मिशन के चलते बीते 6 वर्षों में उत्तराखंड में दूषित जल शोधन क्षमता में 4 गुना की वृद्धि हुई बीते 6 वर्षों में गंगा नदी में जाने वाले 130 नालों को बंद किया गया अपनी तरह की पहले गंगा नदी संग्रहालय ‘गंगा अवलोकन’ का उद्घाटन 2 अक्टूबर से…

Read More

सोशल डिस्टेसिंग की धज्जियां उड़ाकर दोगुना किराया वसूल रहे है सार्वजानिक वाहन
Public vehicles are charging double fare

रिपोर्ट: शक्तिमोहन बिज्ल्वाण सरहद का साक्षी देहरादून: उत्तराखण्ड शासन व्दारा सार्वजनिक वाहनों, उत्तराखण्ड़ परिवहन निगम की बसों, टैक्सी, मैक्सी, टैम्पो, विक्रम में दोगुना किराया लिये जाने पर रोक के आदेशो के बाबजूद भी बसों में सोशियल डिस्टेसिंग की धज्जियां उडाई जा जा रही हैं। परिवहन विभाग की एसओपी की धज्जियां हरिव्दार से देहरादून जा रही परिवहन निगम की इस बस में यात्रियों को ठूंस कर भरा गया है। वहीं यात्रियों से दोगुना किराया भी वसूला जा रहा है। जो…

Read More

मंगेश घिल्डियाल के बाद अब ईवा आशीष श्रीवास्तव को टिहरी जिले की कमान
After Mangesh Ghildiyal, Eva Ashish Srivastava is now in command of Tehri district

सरहद का साक्षी देहरादून: आईएएस अधिकारी ईवा आशीष श्रीवास्तव अब टिहरी जिले की नई जिलाधिकारी होंगी। उनके इस पद पर जल्दी पदभार ग्रहण करने की संभावना है। उल्लेखनीय है कि टिहरी के जिलाधिकारी रहे मंगेश घिल्डियाल प्रतिनियुक्ति पर पीएमओ के लिए कार्यमुक्त हो रहे हैं। ऐसे में शासन ने उनके स्थान पर आईएएस अधिकारी ईवा आशीष श्रीवास्तव को टिहरी का नया डीएम तैनात किया है। ईवा आशीष वर्तमान में अपर सचिव, सामान्य प्रशासन के साथ ही गढ़वाल मंडल विकास…

Read More

महाविद्यालय अगस्त्यमुनि में मनाया गया “हिन्दी पखवाड़ा”

रिपोर्ट: डाॅ. दलीपसिंह बिष्ट सरहद का साक्षी  अगस्त्यमुनि: राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय अगस्त्यमुनि में “हिन्दी पखवाड़ा” के अंतर्गत विभिन्न ऑनलाइन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया । इस अवसर पर महाविद्यालय की प्राचार्या प्रो०पुष्पा नेगी ने बताया कि केवल ‘हिन्दी दिवस’ या ‘हिन्दी पखवाड़ा’ के अंतर्गत ही हिन्दी भाषा को न देखा जाये, बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी भाषा को पहचान दिलाने के लिए हम सभी को संकल्परत होना चाहिए, तभी हमारा “हिन्दी भाषा मेरी पहचान” कहना…

Read More

देश में वर्तमान समय में किसानों की स्थिति और समस्यायें

प्रस्तुति:  नवीन  सरहद का साक्षी अगस्त्यमुनि: आजादी के बाद सरकार ने किसानों के विषय में भी सोचना शुरू किया। किसान बहुत मेहनत करके अनाज पैदावार करते हैं और जब किसी फसल की पैदावार अधिक हो जाती है तब बाजार में भाव कम हो जाते हैं, इसलिए लाल बहादुर शास्त्री सरकार ने 1965 में एक समिति का गठन किया और 1966 से न्यूनतम समर्थन मूल्य की शुरुवात हुई। मतलब वह रेट जिस पर सरकार फसलों का रेट निर्धारित करती है।…

Read More

error: Content is protected !!