सभी प्रवासियों को मिले सरकारी योजनाओं का लाभ: मंगेश घिल्डियाल

डीएम टिहरी श्री मंगेश घिल्डियाल
डीएम टिहरी श्री मंगेश घिल्डियाल
play icon Listen to this article

जिला योजना में सबसे अधिक धनराशि उद्यान विभाग को

सरकारी योजनाओं का लाभ: कोविड-19 के कारण लौटे प्रवासियों को स्वरोजगार मुहैया कराने को लेकर जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने उद्यान विभाग के क्षेत्रीय कर्मचारियों की एक बैठक जिला कार्यालय सभागार कक्ष में ली। बैठक में जिलाधिकारी ने उद्यान से जुड़े सभी कर्मियों को स्पष्ट निर्देश दिये कि सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं का लाभ सभी प्रवासियों को मिले।

बैठक में उद्यान विभाग द्वारा जिला योजना में प्रस्तावित नई योजनाओं की जानकारी दी गयी। जिस पर जिलाधिकारी ने बताया कि इस वर्ष जिला योजना में सबसे अधिक धनराशि उद्यान विभाग को दी गयी है ताकि उद्यान के क्षेत्र में रोजगार उपलब्ध हो सकें। उन्होंने निर्देश दिये कि उद्यान से जुडे सभी कार्मिकों को अपनी विभागीय योजनाओं की पूर्ण जानकारी होनी चाहिए, ताकि ग्राम स्तर तक प्रत्येक व्यक्तियों को उद्यान से सम्बन्धित रोजगार परक सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सकें।

पांच-पांच बगीचों का लक्ष्य रखकर कार्य करें सभी सचल दल प्रभारी

उन्होंने सभी सचल दल प्रभारियों को निर्देश दिये कि वे अपने-अपने क्षेत्र न्याय पंचायत स्तर पर कम से कम प्रति सीजन पांच-पांच बगीचों का लक्ष्य रखकर कार्य करें, साथ ही लगाये गये बगिचों की घेर-बाड भी करें और किस क्षेत्र में किन पौधों को रोपित किया जा सकता है इसकी पूर्ण जानकारी एकत्रित कर कार्य करें।

जिलाधिकारी ने जिला उद्यान अधिकारी डी.के. तिवारी को निर्देश दिये कि कोविड-19 के चलते अपने घरों को लौटे बेरोजगार युवाओं को उद्यानी, बागवानी, फल उत्पादन, सब्जी उत्पादन के क्षेत्र में बारीकी से जानकारी दें, ताकि वे सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकें और अपने आय के स्रोतों को बढा सकें।

रेखीय विभागों की योजनाओं का प्रचार-प्रसार करने के निर्देश: जिलाधिकारी

बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि अन्य रेखीय विभागों की योजनाओं का प्रचार-प्रसार भी किया जाय। जिलाधिकारी ने उद्यान विभाग के द्वारा वर्षा काल में रोपित किये गये उद्यानों की समीक्षा की तथा सम्बन्धित विभागीय कार्मिकों को इन खेतों की घेर-बाड़ करने के भी निर्देश दिये।

नष्ट पौधे की जगह नया पौधा रोपें: डीएम

जिलाधिकारी ने सभी उद्यान से जुडे कार्मिकों को निर्देश दिये कि एक मोबाईल एप के माध्यम से जुड़ें और उसकी निरीक्षा समय-समय पर करें। उन्होने कहा कि यदि किसी पैच (खेत) में 100 पौधे लगा रखे है और यदि किन्ही कारणों से 10 पौधें नष्ट हो जाते हैं तो उनके स्थान पर अन्य 10 पौधे रोपित करें।

जिलाधिकारी ने बताया कि जिला योजना में लघु सिंचाई विभाग को भी धनराशि उपलब्ध करा रखी है, यदि किसी उद्यान क्षेत्र में सिंचाई के लिए टैंक आदि बनाये जाने कि आवश्यकता हो तो प्रस्ताव बनाकर भेजें।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक रूहेला, जिला उद्यान अधिकारी डी.के. तिवारी, सभी सचल दल प्रभारी व क्षेत्रीय उद्यान कर्मचारी उपस्थित थे।