श्री देव सुमन विश्वविद्यालय परिसर ऋषिकेश में पृथ्वी दिवस पर स्वच्छता अभियान एवं कार्यशाला का किया आयोजन

0
192
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

श्री देव सुमन विश्वविद्यालय परिसर ऋषिकेश में पृथ्वी दिवस पर स्वच्छता अभियान एवं कार्यशाला का किया आयोजन

ऋषिकेश: श्री देव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय परिसर ऋषिकेश पर्यावरण संरक्षण के संकल्प के साथ मनाया गया। पृथ्वी दिवस के अवसर पर परिसर में एक ऑनलाइन संगोष्ठी का आयोजन किया गया, साथ ही परिसर के पंडित ललित मोहन शर्मा पार्क में अध्यापकों तथा कर्मचारियों ने स्वच्छता अभियान चलाया।

विश्वविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर रावत के निर्देशन में प्रोफेसर ए पी सिंह, प्रो योगेश शर्मा, प्रो दिनेश शर्मा ,प्रो अंजनी प्रसाद दुबे, तथा परिसर के कार्यालय सहयोगियों ने पार्क में स्वच्छता हेतु श्रमदान किया ।

22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस के अवसर पर भूगोल विभाग तथा वनस्पति विज्ञान विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित ऑनलाइन संगोष्ठी में पृथ्वी पर पर्यावरण संरक्षण के संदर्भ में विभिन्न वक्ताओं ने अपने बहुमूल्य विचार प्रदान किया।

संगोष्ठी के स्वागत एवं परिचयात्मक सत्र में विज्ञान संकाय के डीन प्रोफेसर गुलशन कुमार ढींगरा ने एक ही पृथ्वी विषय पर अपने विचार रखे। परिसर के प्राचार्य प्रोफेसर एम एस रावत ने मानव जीवन तथा भावी पीढ़ी को सुरक्षित एवं स्वस्थ रखने के लिए पर्यावरण को प्रदूषण से मुक्त रखने का आवाहन किया।

संगोष्ठी के मुख्य वक्ता पंजाब विश्वविद्यालय के भूवैज्ञानिक एवं पर्यावरणविद् प्रो आहूवालिया ने हिमालय के भूगर्भिक इतिहास तथा भारत की अनुकूल जलवायु में हिमालय की उपयोगिता पर प्रकाश डाला ।

उन्होंने हिमालय क्षेत्र में भूवैज्ञानिक पार्कों के निर्माण का सुझाव दिया इससे पर्यटन को बढ़ावा मिल सके । इसके साथ उन्होंने प्रकृति के प्रति मानवीय संवेदना में गिरावट को लेकर अपनी चिंताएं भी प्रकट की।

कला संकाय के डीन प्रोफेसर डीसी गोस्वामी ने सभी प्रतिभागियों तथा अतिथियों को धन्यवाद ज्ञापित किया तथा सामाजिक सांस्कृतिक मूल्यों और विरासत के आधार पर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प दिलाया।

कार्यक्रम का संचालन प्रोफेसर ए पी दुबे ने किया इस संगोष्ठी में प्रोफेसर संगीता मिश्रा, प्रो एपी सिंह ,प्रोअनीता तोमर, प्रो कंचन लता सिन्हा ,प्रो अधीर चौधरी ,प्रो सुमिता बडोला, प्रो बीडी पांडे सहित विभिन्न विषयों के छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया ।

Comment