शुक्रवार की रात बरसी आफत, मुख्यमंत्री ने जेसीबी से किया आपदा प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण

शुक्रवार की रात बरसी आफत, मुख्यमंत्री ने जेसीबी से किया आपदा प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण
play icon Listen to this article

देहरादून/टिहरी। सूबे के विभिन्न हिस्सों में शुक्रवार की देर रात आफत की बारीस हुई। कहीं बादल के फटने से भारी क्षति पहुंची तो कहीं भीषण बरसा ने कहन बरपाया। मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा आज कुमाल्टा टिहरी एवं उसके आसपास के आपदा प्रभावित क्षेत्रों का स्थलीय निरीक्षण किया गया। मुख्यमंत्री ने कमिश्नर गढ़वाल एवं जिलाधिकारी टिहरी को निर्देश दिए कि आपदा प्रभावित क्षेत्र के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाएं। उनके लिए भोजन एवं अन्य आवश्यक सामग्री की पर्याप्त व्यवस्था की जाय।

शुक्रवार की रात बरसी आफत, मुख्यमंत्री ने जेसीबी से किया आपदा प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण

मुख्यमंत्री ने जेसीबी से आपदा प्रभावित क्षेत्र का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो मार्ग अवरुद्ध हुए हैं, उन्हें तत्काल खोलने की कार्यवाही करने के साथ ही लोगों को आवागमन के लिए वैकल्पिक मार्ग की व्यवस्था की जाए। जिन क्षेत्रों में पेयजल एवं विद्युत की आपूर्ति बाधित हुई है, उन क्षेत्रों में विद्युत एवं पेयजल की जल्द सुचारू व्यवस्थाएं की जाय।

इस अवसर पर विधायक उमेश शर्मा काऊ, प्रीतम सिंह पंवार, गढ़वाल कमिश्नर सुशील कुमार, डीआईजी गढ़वाल के.एस. नगन्याल, जिलाधिकारी टिहरी डॉ. सौरभ गहरवार, एसएसपी टिहरी नवनीत सिंह भुल्लर, अपर जिलाधिकारी रामजी शरण शर्मा सहित जिला प्रशासन के अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

सकलाना पट्टी के ग्राम पंचायत कुमाल्डा, भरवा काटल और ग्राम पंचायत धौलागिरी के सीतापुर में भारी बारिश से भारी नुकसान हुआ। श्री भगवान सिंह पवार सरकारी गल्ला विक्रेता की दुकान, दुकान में भरा हुआ राशन और एक मोटरसाइकिल मकान सहित खत्म हो चुका है।

घनसाली बूढ़ा केदार मोटर मार्ग पर कर्णगांव के स्यूडियाणा (चम्फवा) नामे तोक पर सोना देवी पत्नी स्व0 करण सिंह रावत का मकान के नीचे से दिवाल टूटने से मकान के आंगन सहित घर का आधा हिस्सा टूट गया है।

मखलोगी प्रखण्ड के विभिन्न हिस्सों में भी इस आफत की बारीस ने कहर बरपाया। कई ग्रामीणों के आंगन चौक व खेतों के पुस्ते खड़ी फसलों समेत टूट चुके हैं। कोठी तल्ली गांव में विक्रमसिंह धनोला के आवासीय भवन का आंगन सुरक्षा दीवार समेत क्षतिग्रस्त होकर मकान को खतरे की जद में खड़ा कर गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here