बुधवार , जुलाई 6 2022
Breaking News
वीररस कविता: अजयवीरों की यही नियति है...!

वीररस कविता: अजयवीरों की यही नियति है…!

play icon Listen to this article

[su_highlight background=”#091688″ color=”#ffffff”]सरहद का साक्षी @कवि: सोमवारी लाल सकलानी, निशांत।[/su_highlight]

अजयवीरों की यही नियति है…!

उठो अजय! तुम आंखें खोलो !
देखो! कौन तुम्हें जगाने आए हैं !
भारत माता के हर कोने-कोने से,
तुम्हारा पराक्रम  देखने आए हैं !

उठो अजय ! एक बार तुम !
देखो! अपनी जननी जन्मभूमि को!
तुम्हें जगाने त्रिहरी भारत से
जन आज द्वार तुम्हारे आये हैं।

ऐ शौर्य के अग्रदूत अजय रौतेला !
तुम एक बार तो आंखें खोलो !
तड़फ रही है तुम्हारी कुजंणी खाड्डी,
रूठो मत मित्र ! कुछ तो बोलो !

🚀 यह भी पढ़ें :  Kovid-19: स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना और जन्म-मृत्यु पंजीयन प्रणाली के आंकड़ों की तुलना से निकाले जाने वाले नतीजे हैं भ्रामक और गलत

उठो पराक्रम के परम पुरुष तुम!
क्यों इस चिर निंद्रा में लेटे हो ?
शौर्य वीर पराक्रमी साथी सैनिक,
सभी तुम्हें जगाने  को आए हैं !

उठो परमवीर अजय  तुम !
देखो हेंवल क्षेत्र सरिता कानन!
आज तुम्हारा रामपुर बन गया,
भारत माता का पावन आंचल।

उठो मित्र! तुम आंखें खोलो’
देखो! बाल  बृद्ध जन आए हैं !
माताएं बहने बेटियां बांधव,
सब तुम्हें मनाने यहाँ आए हैं !

बिलख रही है आज वसुंधरा !
जय -घोष अमरता नारों से।
लाज रखी तुमने मां दूध की,
इस महा वीरगति के पाने से !

🚀 यह भी पढ़ें :  अक्टूबर 10 तक पदोन्नतियां न हुई तो प्रा.शि.सं. करेगा आंदोलन

ऐ विजयी वीर अजय रौतेला !
तुमने भारत माता का मान बढाया।
वीर हमारे अजय – अमर तुम ,
सर्वोच्च शौर्य बलिदान तुम्हें है भाया।

इतिहास अमरअमिट वीरों का,
नाम इसी का वीरगति है।
ऐ सिंह सपूत मातृभूमि के !
परमवीरों की यही नियति है।

    *कवि कुटीर, सुमन कॉलोनी चंबा, टिहरी गढ़वाल।

Print Friendly, PDF & Email

Check Also

जयंती विशेष: महाकवि नागार्जुन की कविताएं गरीब, असहाय, किसान, मजदूर, शिल्पी, काश्तकार और समाज के हर वर्ग की कथा व्यथा को वर्णित करती हैं

जयंती विशेष: महाकवि नागार्जुन की कविताएं गरीब, असहाय, किसान, मजदूर, शिल्पी, काश्तकार और समाज के हर वर्ग की कथा व्यथा को वर्णित करती हैं

Listen to this article आज महाकवि नागार्जुन की जयन्ती है। व्यस्तता के बाबजूद लिखना लाजिमी …

error: Content is protected !!