वन रैंक-वन पेंशन की विसंगतियों के खिलाफ चंबा में पूर्व सैनिकों ने भरी हुंकार

वन रैंक-वन पेंशन की विसंगतियों के खिलाफ चंबा में पूर्व सैनिकों ने भरी हुंकार
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

वन रैंक-वन पेंशन की विसंगतियों के खिलाफ चंबा में पूर्व सैनिकों ने भरी हुंकार

निकाली रैली, आंदोलन को धार देने के लिए हुई बैठक

रिपोर्ट- सोमवारी लाल सकलानी ‘निशांत’

चंबा में जिला पूर्व सैनिक संगठन के आह्वान पर सैकड़ों पूर्व सैनिकों ने वन रैंक-वन पेंशन की विसंगतियों के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया और शहर में अपनी मांगों के समर्थन में रैली निकाली। बाद में शहर के एक होटल में पूर्व सैनिकों की बैठक हुई जिसमें आंदोलन की भावी रणनीति के बारे में चर्चा हुई और आंदोलन को धार देने के लिए रणनीति बनाई गई।

पूर्व सैनिक संगठन के अध्यक्ष देेव सिंह पुंडीर के नेतृत्व में इस विशाल रैली का आयोजन हुआ। उन्होने अनेक विसंगतियों के बारे में बताया। कहा कि सैनिकों और अफसरों के लिए अलग-अलग मानक क्यों ? बॉर्डर पर तो ठंड समान ढंग से सबको लगती है। चाहे वह अफसर हो या सैनिक। फिर यह विसंगतियां क्यों हैं? पे मैट्रिक्स में 2.57 तथा 2.81 की भी बात हुई।

कहा कि जब तक विसंगतियां समाप्त नहीं हुई, वे आंदोलन को और आगे बढ़ाएंगे। संरक्षक इंद्र सिंह नेगी ने कहा कि कुछ समय पूर्व, दिल्ली के जंतर मंतर में भी विशाल रैली का आयोजन किया गया और दिल्ली में भी पूर्व सैनिकों का आंदोलन चल रहा है। संपूर्ण देश के पूर्व सैनिकों का समर्थन है। कहा कि तन- मन -धन से आंदोलन में समस्त पूर्व सैनिकों की भागीदारी है और अपनी मांगों को पूर्ण होने तक वे पीछे नहीं हटेंगे।

आज के रैली और बैठक में लगभग 200 पूर्व सैनिक तथा सैनिक विधवाएं सम्मिलित हुई। दूरदराज के क्षेत्रों से बड़ी संख्या में पूर्व सैनिक, संगठन के ब्लॉक अध्यक्षों के नेतृत्व में सुबह से ही वी.सी. गबर सिंह चौक में एकत्रित होने लगे। अनेकों सैनिक सेना मेडल पहने और फौजी टोपी में नजर आए।

आज की रैली में कै.आनंद सिंह नेगी, कै. विक्रम सिंह रावत, महिपाल सिंह सज्वाण, शंकर कोठारी, कृष्णा ममगाईं, गोपाल दत्त सकलानी, दीवान सिंह कुंवर, दर्मियान सिंह सज्वाण, द्वारिका प्रसाद सकलानी, विक्रम सिंह भंडारी, बचन सिंह भंडारी, गंभीर सिंह राणा, सोबन सिंह सज्वाण, विजेंद्र चौहान, सुंदरलाल सकलानी,युद्धवीर भंडारी, सुमेरी देवी, बसंती देवी आदि बड़ी संख्या में सैनिक और सैनिक विधाएं सम्मिलित हुई।

Comment