राष्ट्रीय सेवा योजना शिविर का हुआ समापन,  सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज नई टिहरी के चवाल खेत (बुडोगी) में लगाया गया था कैंप

62
राष्ट्रीय सेवा योजना शिविर का हुआ समापन,  सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज नई टिहरी के चवाल खेत (बुडोगी) में लगाया गया था कैंप

राष्ट्रीय सेवा योजना शिविर का हुआ समापन, 
सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज नई टिहरी के चवाल खेत (बुडोगी) में लगाया गया था कैंप

मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे जिला शिक्षा अधिकारी (बेसिक) बी के ढौंडियाल

मुख्य वक्ता के रूप में साहित्यकार और स्वच्छता ब्रांड एंबेसडर( नगर पालिका परिषद चंबा) कवि सोमवारी लाल सकलानी ‘निशांत ने किया संबोधन’

नई टिहरी: सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज नई टिहरी का सात दिवसीय राष्ट्रीय सेवा योजना (विशेष शिविर) का आज चवाल खेत (बुड़ोगी) में विधिवत ढंग से संपन्न हुआ।

समापन अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में जिला शिक्षा अधिकारी बीके ढौंडियाल ने अपने संबोधन में छात्र-छात्राओं को चरित्र निर्माण, शिक्षा के प्रति समर्पण और अनुशासन का पाठ पढ़ाया। साथ ही अनेकों अनुभव आधारित बातें भी छात्र-छात्राओं के सम्मुख बंया की। कहा कि छात्र जीवन में जिस व्यक्ति ने कष्ट सह लिया, भविष्य में अवश्य उसे सुख मिलेगा लेकिन जिसने छात्र जीवन में समय का सदुपयोग नहीं किया, परिश्रम से जी चुराया, उसे भविष्य में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

राष्ट्रीय सेवा योजना शिविर का हुआ समापन,  सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज नई टिहरी के चवाल खेत (बुडोगी) में लगाया गया था कैंपमुख्य वक्ता कवि और साहित्यकार सोमवारी लाल सकलानी ‘निशांत’ ने अपने संबोधन में कहा की स्वयंसेवियों को तन-मन से समर्पित होना चाहिए। प्रत्युत्पन्नमति होनी चाहिए, कर्तव्यपरायणता, स्वच्छता और समग्रता का उन्होंने उल्लेख किया। प्रधानमंत्री जी के पंच प्रण – विकसित भारत, भारत विकास, गुलामी की मानसिकता से छुटकारा, एकता की भावना तथा कर्तव्य परायणता पर अपनी बात रखी।

चंबा नगर के स्वच्छता ब्रांड एंबेसडर होने के नाते उन्होंने व्यक्तिगत और सामूहिक स्वच्छता के साथ-साथ कूड़ा निस्तारण, खुले में शौच से मुक्ति और अनेक प्रकार की स्वच्छता संबंधी बातें छात्रों के सम्मुख रखी। आशा व्यक्त की वह छात्र- छात्रायें एन एस एस के निर्देशों का आदर करें और उनका पालन करें। स्वस्थ्य प्रजातांत्रिक नागरिक होने के नाते अपने घर- परिवार, रिश्तेदार और क्षेत्र में शत- प्रतिशत मतदान करने के लिए जागरूक करे।

उन्होंने अनेक महान पुरुषों के संस्मरण भी अपने वक्तव्य में अभिव्यक्त किये तथा जो लोग शून्य से शिखर पर पहुंचे हैं उन लोगों का भी जिक्र किया।

प्रधानाचार्य वी डी कुनियाल ने सात दिन तक समर्पण भावना से और अनुशासित ढंग से यूनिट के छात्र-छात्राओं द्वारा किए गए कार्य की सराहना की। कहा कि विद्या भारती की शिक्षा योजना के अंतर्गत संस्कारी शिक्षा,नैतिक शिक्षा और स्वस्थ्य परम्पराओं पर भी जोर दिया जाता है और संस्कारयुक्त बच्चों के अंदर अनुशासनशीलता आती है,ज्ञान और कौशल में वृद्धि होती है। उन्होंने बेहतर कार्य करने के लिए स्वयंसेवियों को धन्यवाद दिया साथ ही मुख्य अतिथि,विशिष्ट अतिथि, मुख्य वक्ता का आभार प्रकट किया।

Comment