राष्ट्रीय सेवा योजना का 54वां स्थापना दिवस महाविद्यालय पोखरी (क्वीली) में धूमधाम से मनाया

राष्ट्रीय सेवा योजना का 54वां स्थापना दिवस महाविद्यालय पोखरी (क्वीली) में धूमधाम से मनाया
राष्ट्रीय सेवा योजना का 54वां स्थापना दिवस महाविद्यालय पोखरी (क्वीली) में धूमधाम से मनाया
play icon Listen to this article

राष्ट्रीय सेवा योजना का 54वां स्थापना दिवस शहीद बेलमती चौहान राजकीय महाविद्यालय पोखरी (क्वीली) टिहरी गढ़वाल में बहुत धूमधाम से मनाया गया. जिसके अंतर्गत समस्त स्वयंसेवियों हेतु एक दिवसीय नियमित शिविर का आयोजन किया गया. कार्यक्रम अधिकारी डॉ० राम भरोसे ने बताया कि आज इस सुअवसर पर महाविद्यालय के समस्त स्वयंसेवियों ने प्रतिभाग किया.

सरहद का साक्षी, नरेन्द्र बिजल्वान, पोखरी

कार्यक्रम की शुरुआत एनएसएस के लक्ष्य गीत से हुआ. इसके बाद कार्यक्रम अधिकारी डॉ० राम भरोसे ने प्रोजेक्टर के माध्यम से महाविद्यालय की एनएसएस इकाई द्वारा गत वर्षों में किए गए कार्यों की झलकियाँ प्रस्तुत की. इस दौरान महाविद्यालय परिसर में स्वच्छता अभियान भी चलाया.

कार्यक्रम सभागार में स्वयंसेवियों को प्राचार्य डॉ0 शशिबाला वर्मा ने एनएसएस डे का इतिहास व महत्‍व के बारे में विस्तृत जानकारी छात्र-छात्रओं को दी।

एनएसएस की वर्तमान स्थिति

एनएसएस के अंतर्गत आने वाले शैक्षणिक संस्थानों की संख्या में लगातार बढ़ोत्‍तरी हो रही है। इस समय करीब 39,695 एनएसएस इकाइयों में 36.5 लाख से अधिक स्वयंसेवी हैं, जो देश के 391 विश्वविद्यालयों, 2 परिषदों, 16,278 कॉलेजों व तकनीकी संस्थानों और 12,483 वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में फैला हुआ हैं।

एनएसएस का कार्य क्षेत्रमुख्य गतिविधियों वाले क्षेत्रों में शिक्षा और साक्षरता, स्वास्थ्य, स्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण, सामाजिक सेवा कार्यक्रम, महिलाओं की स्थिति में सुधार, आपदा राहत तथा, सामाजिक बुराइयों के खिलाफ अभियान, इत्यादि जैसे प्रमुख कार्यक्रमों के बारे में जागरूकता पैदा के बारे में स्वयम सेवियो को अवगत कराया।

सिंगल यूज प्लास्टिक समिति के संयोजक डॉ० सरिता देवी द्वारा स्वयंसेवियों को प्लास्टिक के प्रयोग से पर्यावरण को होने वाली हानि से विषय में विस्तार से बताया. और डॉ० राम भरोसे ने इसके बाद नशा मुक्ति की जागरूकता के बारे में सभी को जागरूक किया. इसके बाद महाविद्यालय की प्राचार्या महोदया डॉ० शशि बाला वर्मा द्वारा राष्ट्रीय सेवा योजना के इतिहास और उसकी वर्तमान में प्रासंगिकता पर विस्तृत व्याख्यान महाविद्यालय के स्वयंसेवियों को दिया.

इस कार्यक्रम में महाविद्यालय परिवार से डॉ० सरिता देवी, डॉ० सुमिता, डॉ० बंदना सेमवाल, डॉ० मुकेश सेमवाल, अंकित, कु० अमिता, नरेंद्र, नरेश , दीवान सिंह, श्रीमती सुनीता, मूर्तिलाल, राजेंद्र प्रसाद और काजल, अक्षा, अंजलि, प्रियंका, मनीषा, मोनिका, नीना, शिवानी, रितिका, निकिता, मंजू, आदि स्वयंसेवी उपस्थित रहें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here