राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के विचारों की प्रासंगिकता 21वीं सदी के आणविक युग में और भी महत्वपूर्ण है:  राकेश राणा

0
34
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के विचारों की प्रासंगिकता 21वीं सदी के आणविक युग में और भी महत्वपूर्ण है:  राकेश राणा

नई टिहरी: अहिंसा के रास्ते कार्यक्रम के 6 वर्ष पूरे होने पर कांग्रेसजनों द्वारा जिला मुख्यालय नई टिहरी में अहिंसा उत्सव सप्ताह मनाया गया जिसके तहत आज समापन दिवस पर वर्तमान समय में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के विचारों की प्रासंगिकता विषय पर विभिन्न विद्यालयों के छात्र-छात्राओं के मध्य भाषण प्रतियोगिता के आयोजन किया गया ।

भाषण प्रतियोगिता में जूनियर वर्ग में सेंट एंथोनी पब्लिक स्कूल बौराड़ी की छात्रा करतिशा राणा प्रथम स्थान पर सेंट एंथोनी पब्लिक स्कूल बौराड़ी की छात्रा अंशिका द्वितीय स्थान पर तथा डी०के०जी० पब्लिक स्कूल बोराडी की छात्रा बानी अरोड़ा तृतीय स्थान पर रही ,इसी तरह सीनियर वर्ग में सेंट एंथोनी ढूंगीधर के छात्र सूरज नौटियाल प्रथम स्थान पर सरस्वती विद्या मंदिर की छात्रा आंचल सोनी द्वितीय स्थान पर ऑल सेंट कान्वेंट स्कूल के छात्र शुभम पुंडीर तृतीय स्थान पर रहे। इसके साथ ही सभी प्रतिभागी छात्र-छात्राओं को प्रससित प्रमाण पत्र के सांत्वना पुरस्कार भी दिए गए।

कार्यक्रम में जिला कांग्रेस कमेटी टिहरी गढ़वाल के अध्यक्ष राकेश राणा ने आयोजक समिति का धन्यवाद करते हुए कहा कि वर्तमान परिवेश में महात्मा गांधी जी के विचारों की प्रासंगिकता 21वीं सदी के इस दौर में वहां और बढ़ जाती है जहां विश्व के लगभग आधा से ज्यादा देश परमाणु शक्ति संपन्न हो गए हैं।

उन्होंने कहा सोशल मीडिया के इस दौर में जहां आने वाली पीढ़ी को भ्रामक चीजों से भ्रमित किया जा रहा है वही इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित करने पर छात्र-छात्राएं सत्य अहिंसा और सच्चाई के मार्ग से उन्हें अवगत कराया जा सकता है।

कार्यक्रम के संयोजक कांग्रेस के प्रदेश सचिव सैयद मुशर्रफ अली और पीसीसी सदस्य मुरारी लाल खंडवाल ने गांधी जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए छात्र छात्रों के मध्य अपनी बात रखी और कहा कि असहयोग आंदोलन के करीब आठ साल बाद महात्मा गांधी ने एक और आंदोलन किया।

इस आंदोलन से अंग्रेज सरकार हिल गई। महात्मा गांधी ने 12 मार्च, 1930 को अहमदाबाद स्थित साबरमती आश्रम से दांडी गांव तक 24 दिन का पैदल मार्च निकाला। इस मार्च को दांडी मार्च, नमक सत्याग्रह और दांडी सत्याग्रह के रूप में इतिहास में जगह मिली।

सर्वोदय नेता साहब सिंह सजवान ने गांधी जी के तमाम सत्याग्रहों पर प्रकाश डालते हुए नमक सत्याग्रह आंदोलन से जुड़ी कई बातें छात्र-छात्राओं को सुनाएं और भाषण प्रतियोगिता में प्रथम द्वितीय तृतीय स्थान पर है छात्र -छात्राओं को महात्मा गांधी जी के जीवन पर लिखी किताब वितरण की।

कार्यक्रम का संचालन कर रहे शहर कांग्रेस के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पवार और पीसीसी सदस्य देवेंद्र नौटियाल ने कहां की वर्तमान की सरकार स्कूली सिलेबस को छेड़छाड़ करके उसमें स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों देश के महानायकों के जीवन दर्शन को हटाकर सिलेबस में भ्रमित करने वाली विषयों को लाकर आने वाली पीढ़ी को सच्चाई के रास्ते से भड़काना चाहते हैं जबकि यह नहीं होना चाहिए।

भाषण प्रतियोगिता में सर्वोदय नेता साहब सिंह सजवान वरिष्ठ पत्रकार लेखक साहित्यकार महिपाल सिंह नेगी हिंदी की शिक्षिका नीलम लता सिंह ने निर्णयक की भूमिका निभाई ।

भाषण प्रतियोगिता में राजकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नई टिहरी सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज नई टिहरी सरस्वती बालिका विद्या मंदिर ढुंगी धार डी०के०जी०पब्लिक स्कूल बोराडी ऑल सेंट्स कान्वेंट स्कूल नई टिहरी सेंट एंथोनी पब्लिक स्कूल बोराडी राजकीय बालिका इंटरमीडिएट कॉलेज बौराड़ी, राजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज मोल्धार के छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया

उपरोक्त कार्यक्रम में जिला कांग्रेस कमेटी टिहरी गढ़वाल के अध्यक्ष राकेश राणा महिला कांग्रेस की जिला अध्यक्ष आशा रावत प्रदेश सचिव सैयद मुशर्रफ अली वरिष्ठ नेता मुरारीलाल खंडवाला, पीसीसी सदस्य देवेंद्र नौटियाल जिला उपाध्यक्ष खुशीलाल असद आलम गब्बर सिंह रावत, ईमरान खान, वीरेंद्र दत्त ,सरताज अली अमित पंत सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

Comment