राजकीय महाविद्यालय रिखणीखाल में हिन्दी दिवस पर कार्यक्रम आयोजित

राजकीय महाविद्यालय रिखणीखाल में हिन्दी दिवस पर कार्यक्रम आयोजित
play icon Listen to this article

भारत सिंह रावत राजकीय महाविद्यालय रिखणीखाल में हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ मनोज उप्रेती ने दीप प्रज्जलित करके किया गया। उन्होने अपने सम्बोधन मे कहा कि हिन्दी को भारत की जननी भाषा कहा जाता है।

सरहद का साक्षी, विक्रम सिंह रावत @पौड़ी

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए महाविद्यायल के प्राचार्य प्रो मनोज उप्रेती द्वारा समस्त महाविद्यालय परिवार एवं छात्र/छात्राओं को ‘‘हिन्दी दिवस‘‘ की हार्दिक शुभकामनाए प्रेषित की।  हिन्दी हमारे स्वाभिमान और गर्व की भाषा है हिन्दी ने हमें एक नई पहचान दिलाई हैं जब हमारा देश आजाद हुआ तो देश के सामने एक राजभाषा के चुनाव को लेकर सबसे बड़ा सवाल था, क्योंकि भारत में हजारों भाषाऐं और सैकड़ो बोलिया बोली जाती थी जिसे ध्यान में रखते हुये 14 सितम्बर, 1949 को हिन्दी को राजभाषा के रूप में चुना गया।

इस अवसर पर डाॅ0 विपिन कुमार तिवारी, द्वारा छात्र/छात्राओं को हिन्दी भाषा से सम्बन्धित कई रोचक व महत्वपूर्ण बाते साझा की, उन्होने कहा कि हिन्दी भाषा में सभी भावों को भरने की अद्वभुत क्षमता है यह महज भाषा नही बल्कि भारतीयों को एकता व अखंडता के सूत्र में पिरोती है और साथ ही हम सबकी यह भी जिम्मेदारी है कि अपने समाज में हिन्दी भाषा के महत्व व इतिहास के बारे में बताना है और अपने मातृ भाषा के प्रति जागरूक करना है।

इस अवसर पर महाविद्यालय के शिक्षक डाॅ विपिन पवांर, डाॅ भारती, डाॅ मनोज किशोर नौटियाल डाॅ सुनील चैहान, डाॅ विपिन कुमार तिवारी, मीरा रावत एवं समस्त शिक्षणेत्तर कर्मचारी तथा छात्र/छात्राऐं सम्मिलित रहे। महाविद्यालय में कार्यरत शिक्षक डाॅ विपिन कुमार तिवारी ने कार्यक्रम का संचालन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here