महाविद्यालय नागनाथ पोखरी के हिंदी विभाग ने विभिन्न कार्यक्रमों के साथ मनाया हिमवंत कवि चंद्र कुंवर बर्त्वाल का जन्मदिवस

महाविद्यालय नागनाथ पोखरी के हिंदी विभाग ने विभिन्न कार्यक्रमों के साथ मनाया हिमवंत कवि चंद्र कुंवर बर्त्वाल का जन्मदिवस
play icon Listen to this article

हिमवंत कवि चंद्र कुंवर बर्त्वाल के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय नागनाथ पोखरी चमोली के हिंदी विभाग में कार्यक्रम संपन्न हुआ। इस अवसर पर सर्वप्रथम प्राचार्य, प्राध्यापक तथा कर्मचारियों द्वारा चंद्र कुंवर बर्त्वाल जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की गई। इसके उपरांत प्राचार्य द्वारा चंद्र कुंवर बर्त्वाल के छाया चित्र पर दीप प्रज्वलन किया गया।

कार्यक्रम के प्रारंभ में हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ नंदकिशोर चमोला द्वारा मंचासीन प्राचार्य महोदय एवं सभा में बैठे समस्त अध्यापकों एवं कर्मचारियों तथा छात्र-छात्राओं का स्वागत एवं अभिनंदन करते हुए उन्होंने चंद्र कुवंर के जीवन एवं साहित्य की विकास यात्रा पर प्रकाश डाला ।

इस कार्यक्रम में डॉ कीर्ति गिल ने चंद्र कुंवर बर्त्वाल के साहित्य में “दुख एवं पीड़ा”, डॉ प्रियंका भट्ट ने चंद्र कुंवर बर्त्वाल के काव्य में “प्रकृति चेतना”, डॉ अंजना ने चंद्र कुमार बर्त्वाल के काव्य में “बिंब विधान” विषय पर विस्तार से व्याख्यान दिया। डॉ एस के जुयाल ने चंद्र कुंवर बर्त्वाल की साहित्यिक पृष्ठभूमि पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हमें चंद्र कुमार बर्त्वाल के साहित्य संरक्षण करने पर जोर दिया। प्राचार्य प्रो. पंकज पंत ने चंद्र कुंवर बर्त्वाल के साहित्यिक जीवन एवं उनकी कविताओं में दृष्ट्यमान दुख, पीड़ा इत्यादि का वर्णन करते हुए कहा कि नागनाथ स्थित इंटर कॉलेज के तत्कालीन छात्रावास एवं विद्यालय को संग्रहालय बनाया जाना चाहिए।जिससे चंद्र कुमार बर्त्वाल के जीवन एवं कृतित्व को अक्षुण्व रखा जा सकेगा।

इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त प्राध्यापक, कर्मचारी एवं छात्र- छात्राएं उपस्थित रहे। इस कार्यक्रम का संचालन डॉ नंदकिशोर चमोला द्वारा किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here