महाविद्यालय अगस्त्यमुनि में रसायन विज्ञान विभाग द्वारा मनाया गया राष्ट्रीय विज्ञान दिवस

64
महाविद्यालय अगस्त्यमुनि में रसायन विज्ञान विभाग द्वारा मनाया गया राष्ट्रीय विज्ञान दिवस
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

महाविद्यालय अगस्त्यमुनि में रसायन विज्ञान विभाग द्वारा मनाया गया राष्ट्रीय विज्ञान दिवस

रुद्रप्रयाग: भारतीय वैज्ञानिक सर चंद्रशेखर वेंकटरमन के विज्ञान के क्षेत्र में किए गए उल्लेखनीय कार्य को महत्त्व देने के लिए प्रत्येक वर्ष 28 फरवरी को पूरे देश में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाता है। सर सी. वी. रमन जी के द्वारा की गई इस खोज को रमन इफेक्ट के नाम से जाना जाता है तथा 1930 में इस उपलब्धि के लिए उन्हें विख्यात नोबेल प्राइज से नवाजा गया।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के उपलक्ष्य में महाविद्यालय के रसायन विज्ञान विभाग द्वारा दो दिवसीय कार्यक्रम आयोजन किया गया। जिसके अंतर्गत तीन प्रतियोगिताएं रखी गई, चार्ट/ पोस्टर, भाषण एवं प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता, जिनका theme था Advancement in chemistry and chemistry in daily life.
दिनांक 27 फरवरी को चार्ट/पोस्टर प्रतियोगिता में 16 छात्र-छात्राओं द्वारा प्रतिभाग किया गया, जिसमें रसायन विज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में महत्व एवं दैनिक जीवन में रसायन विज्ञान के प्रभाव को चित्रों के माध्यम से दर्शाया गया। सभी प्रतिभागियों ने निर्णायक मंडल द्वारा किए गए सवालों का बड़े उत्साह के साथ उत्तर दिया, जिसमें प्रथम स्थान पर रही अनुष्का (बीएससी द्वितीय वर्ष), द्वितीय स्थान शिवानी (एमएससी प्रथम वर्ष) तथा बीएससी तृतीय वर्ष के छात्र आदर्श भट्ट ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।

दिनांक 28 फरवरी को भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, आयोजन का शुभारंभ रसायन विज्ञान विभाग प्रभारी चंद्रकला नेगी द्वारा सभी विशेषज्ञों एवं छात्र-छात्राओं के स्वागत के साथ हुआ, उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का उद्देश्य हमारे दैनिक जीवन में विज्ञान की उपयोगिता के बारे में लोगों के बीच जागरुकता फैलाना एवं विज्ञान की गतिविधियों, प्रयासों और उपलब्धियों को सृजित करना तथा विद्यार्थियों में वैज्ञानिक सोच को लाना है।

इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राचार्य ने छात्र-छात्राओं को सृजनात्मक और नवाचार की भावना को विकसित करने तथा देश के विकास में अपना योगदान देने की प्रेरणा दी।

भाषण प्रतियोगिता में 11 प्रतिभागियों द्वारा विभिन्न मुद्दों पर बात करते हुए विज्ञान के कई चमत्कारों पर चर्चा की तथा हमारे वातावरण को सुरक्षित रखने के प्रयासों पर भी प्रकाश डाला गया। निर्णायक मंडल के अनुसार प्रथम स्थान पर आदर्श भट्ट (बीएससी तृतीय वर्ष), द्वितीय स्थान शिवानी (एमएससी प्रथम वर्ष) तथा तृतीय स्थान पर सिमरन (बीएससी प्रथम वर्ष) रही। ऑनलाइन प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में स्नातक एवं स्नातकोत्तर के 100 से अधिक छात्र-छात्राओं ने प्रतिभाग किया।

उपरोक्त प्रतियोगिताओं में महाविद्यालय के प्राध्यापक डॉ. हरिओमशरण बहुगुणा, डॉ. नवीन चंद्र खंडूरी, डॉ. के. पी. चमोली, डॉ. अंजना फर्सवान, डॉ सुधीर पेटवाल, डॉ. वीरेंद्र प्रसाद, डॉ. अनुज कुमार और डॉ. दीपाली रतूड़ी ने निर्णायक की भूमिका निभाई। महाविद्यालय के प्राचार्य द्वारा विजेता छात्र-छात्राओं को परितोषिक दिया गया तथा सभी प्रतिभागियों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए शुभकामनाएं दी। इस कार्यक्रम में रसायन विज्ञान विभाग के प्राध्यापक, निर्णायक मंडल और स्नातक एवं स्नातकोत्तर (रसायन विज्ञान) के छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

Comment