पर्यावरण प्रदूषण का पर्याय बनकर गंदगी का साम्राज्य स्थापित कर रहे हैं गांवों के निकट स्थापित प्लास्टिक कूड़ा संग्रहण केन्द्र

0
94
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

पर्यावरण प्रदूषण का पर्याय बनकर गंदगी का साम्राज्य स्थापित कर रहे हैं गांवों के निकट स्थापित प्लास्टिक कूड़ा संग्रहण केन्द्र

टिहरी, 31 मई 2024ः जिले में सर्वाधिक स्थानों पर गांवों के निकट स्थापित प्लास्टिक कूड़ा संग्रहण केन्द्र पर्यावरण प्रदूषण का पर्याय बनकर गंदगी का साम्राज्य स्थापित कर रहे हैं। इन कूड़ा निस्तारण केन्द्रों की साफ सफाई का जिम्मा लिए विभाग कुम्भकर्णी नींद में सोया रहकर प्रशासन के दिशा निर्देशों की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहा है।

गांवों के निकट स्थापित इन कूड़ा संग्रहण केन्द्रों पर ग्रामवासियों व निकटवर्ती बस्ती के लोगों द्वारा अपने घरों का कूड़ा डाला जाता है। मगर कूड़ा निस्तारण की समुचित कार्यवाही न हो पाने के कारण जगह-जगहों पर कूड़े के ढेर एकत्र हो रहे हैं और सड़कों आदि के किनारे अनियोजित ढंग से स्थापित ये केन्द्र सरासर सरकारी धन के दुरुपयोग की मिशाल बन रहे हैं।

जिलाधिकारी टिहरी गढ़वाल मयूर दीक्षित ने 24 मई को तथा इससे पूर्व भी प्लास्टिक अपशिष्ट निस्तारण को लेकर सभी संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक कर जनपद के समस्त बीडीओ से जानकारी लेते हुए सभी को सम्बधित अधिकारियों के साथ बैठक करने, ग्रामीण क्षेत्रों में छापामारी करने, युवा कल्याण विभाग के महिला मंगल दलों को सक्रिय करने, कूड़ा वाहनों का रोस्टर प्रधानों को शेयर करने तथा साफ-सफाई की प्रतिदिन मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिये थे।

इसके साथ ही प्लास्टिक अपशिष्ट निस्तारण को लेकर बनाये गये प्लान को साझा करने तथा गंदगी होने वाले स्थानों को चिन्ह्ति कर नियमित साफ-सफाई का प्लान बनाकर सफाई करवाने तथा फोटोग्राफ्स् उपलब्ध कराने को कहा गया था।

कहा कि ग्राम पंचायतों में लगाये गये सभी डस्टबिन फंक्सनल हो, वाहनों में कूड़ा निस्तारण जन जागरूकता गीत/संदेश नियमित चलें तथा प्रतिदिन कूड़ा वाहनों की जीपीएस ट्रेकिंग कर स्क्रीन सॉट डीडीओ को उपलब्ध कराने को कहा गया। कहा कि सफाई कर्मचारी, वाहन या फण्ड को लेकर कहीं कोई भी दिक्कत है तो अवगत करायें। सभी बीडीओ को जल संरक्षण के तहत किये जाने वाले कार्यों को गुणवत्ता के साथ 30 जून तक पूर्ण करने तथा कार्यों की नियमित मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिये गये।

पीडी डीआरडीए को अपने कार्यालय में प्लास्टिक उन्मूलन हेतु सेल बनाकर सभी ब्लॉकों की लगातार मॉनिटरिंग कर संबंधितों से रिपोर्ट प्राप्त कर उपलब्ध कराने को भी कहा गया। इसके साथ ही साफ-सफाई को लेकर स्थान वाइज सेक्टर/जोनल मजिस्ट्रेट नामित रोस्टर बनाने को कहा गया। जिला पंचायत के अधिकारी को सफाई कार्मिकों की तैनाती का लोकेशन वाइज नाम सहित डाटा उपलब्ध कराने को कहा गया।

पर्यावरण प्रदूषण का पर्याय बनकर गंदगी का साम्राज्य स्थापित कर रहे हैं गांवों के निकट स्थापित प्लास्टिक कूड़ा संग्रहण केन्द्र

जिले के मुखिया के सख्त निर्देशों के बाबजूद भी ग्रामीण क्षेत्रों में इन कूड़ा निस्तारण केन्द्रों की साफ-सफाई इनके स्थापना काल से ही नहीं हो पायी है। इसका जीता जागता उदाहरण नकोट कस्बे के निकट कोठीखाला के निकट स्थापित कूड़ा संग्रहण केन्द्र (जो यहां चित्र में भी दिखाया गया है) है। यही नहीं जिले के अधिकांश गांवों के निकट स्थापित संग्रहण केन्द्रों की साफ सफाई की सुध लेने को कोई जिम्मेदार अधिकारी या कर्मचारी तैयार नहीं है।

Comment