नमामि गंगे कार्यक्रम के अंतर्गत राजकीय महाविद्यालय मजरा महादेव में जनजातीय गौरव दिवस के उपलक्ष पर व्याख्यान माला का आयोजन

नमामि गंगे कार्यक्रम के अंतर्गत राजकीय महाविद्यालय मजरा महादेव में जनजातीय गौरव दिवस के उपलक्ष पर व्याख्यान माला का आयोजन
नमामि गंगे कार्यक्रम के अंतर्गत राजकीय महाविद्यालय मजरा महादेव में जनजातीय गौरव दिवस के उपलक्ष पर व्याख्यान माला का आयोजन
play icon Listen to this article

नमामि गंगे कार्यक्रम के अंतर्गत राजकीय महाविद्यालय मजरा महादेव में जनजातीय गौरव दिवस के उपलक्ष पर व्याख्यान माला का आयोजन किया गया।

सरहद का साक्षी, विक्रम सिंह रावत@पौड़ी 

कार्यक्रम का शुभारंभ महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर के०सी० दुदपुरी द्वारा जनजातियों के महत्त्व और भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदान को रेखांकित करते हुए किया गया। इसके उपरांत महाविद्यालय के हिंदी विभाग के प्रोफेसर सुरेश चंद्रा द्वारा उत्तराखंड राज्य ऐतिहासिक दृष्टिकोण से जनजातियों के स्तिथि पर प्रकाश डाला गया।

समाजशास्त्र विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर श्री आदित्य शर्मा ने जनजातियों के नेता बिरसा मुंडा के योगदान को ब्रिटिश शासन के समय में विस्तृत रुप से बताया। उन्होंने जनजातियों का भारत की ‘विविधता में एकता’ की प्रियदर्शिता को बनाए रखने में दिए योगदान पर अपने विचार प्रस्तुत किए।

राजनीति विज्ञान विभाग के श्री इंद्रपाल सिंह रावत ने संविधानिक दृष्टिकोण से जातियों की स्तिथि को छात्र-छात्राओं के समक्ष प्रस्तुत किया। महाविद्यालय परिवार के डॉ० दीपक कुमार ने उत्तराखंड राज्य के संदर्व में विभिन्न जातियों का उल्लेख किया और उनकी सांस्कृतिक विशिष्टा के महत्त्व को रेखांकित किया।

डॉ० चंद्र बल्लभ नैनवाल ने रामायण और पौरिंक कथाओं में उल्लेखित जनजातियों के वर्णन को प्रस्तुत किया। महाविद्यालय परिवार के कनिष्ठ सहायक श्री उदयराम, विक्रम रावत, मनोज रावत और वीरेंद्र सिंह ने कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।

कार्यक्रम का संचालन महाविद्यालय के समाजशास्त्र विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर आदित्य शर्मा द्वारा किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here