जौनपुर टिहरी क्षेत्र पंचायत की बैठक, 25 रेखीय विभागों के कार्यो समीक्षा, अनुपस्थित वरिष्ठ सहायक, पत्रवाहक एवं दो कनिष्ठ अभियंता के वेतन रोकने के निर्देश

जौनपुर टिहरी क्षेत्र पंचायत की बैठक, 25 रेखीय विभागों के कार्यो समीक्षा, अनुपस्थित वरिष्ठ सहायक, पत्रवाहक एवं दो कनिष्ठ अभियंता के वेतन रोकने के निर्देश
जौनपुर टिहरी क्षेत्र पंचायत की बैठक, 25 रेखीय विभागों के कार्यो समीक्षा, अनुपस्थित वरिष्ठ सहायक, पत्रवाहक एवं दो कनिष्ठ अभियंता के वेतन रोकने के निर्देश


 

play icon Listen to this article

जौनपुर टिहरी क्षेत्र पंचायत की बैठक प्रमुख क्षेत्र पंचायत सीता रावत की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें 25 रेखीय विभागों के कार्यो समीक्षा की गयी। बैठक से पहले सीडीओ मनीष कुमार द्वारा ब्लॉक कार्यालय का निरीक्षण कर कर्मचारियों की उपस्थिति पंजिका चेक की गई तथा अनुपस्थित वरिष्ठ सहायक, पत्रवाहक एवं दो कनिष्ठ अभियंता के वेतन रोकने के निर्देश दिए गए।

इस मौके पर विधायक धनोल्टी प्रीतम सिंह पंवार, मुख्य विकास अधिकारी मनीष कुमार द्वारा भी प्रतिभाग किया गया।

सदन में सर्व प्रथम गत बैठक में दिए गए निर्देशों के क्रम में की गई कार्यवाही से अवगत कराया गया। तत्पश्चात जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य, प्रधानों द्वारा पेयजल, जल संस्थान, खाद्यान्न, लघु सिंचाई, सिंचाई, ग्राम्य विकास, मनरेगा, पशु, सहकारिता आदि अन्य विभागों से विभिन्न विभागों में संचालित योजनाओं के संबंध में जानकारी प्राप्त करने के साथ ही जन समस्याओं से अवगत कराया गया तथा अपने अपने प्रस्ताव रखे गए।

सीडीओ मनीष कुमार ने कहा कि बीडीसी बैठक एक ऐसा प्लैटफार्म है, जिसमें सारे रेखीय विभागों के अधिकारी एवं जन प्रतिनिधि मिलकर क्षेत्र की समस्याओं का समाधान करते हैं। बैठक में 25 रेखीय विभागों के कार्यो समीक्षा की गयी तथा ग्राम सभाओं से आये प्रस्ताव प्राप्त किये गये तथा अधिकारियों को नियमानुसार कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये।

सदन में सदस्य द्वारा ग्राम पंचायत गेड़ में एक परिवार को जल जीवन मिशन से न जोडने की शिकायत पर सीडीओ द्वारा तत्काल कार्यदायी संस्था हंस फउण्डेशन से दूरभाष पर सम्पर्क कर जानकारी ली गयी जिस पर अवगत कराया गया कि दस दिनों के भीतर कार्य हो जायेगा।
मुख्य विकास अधिकारी द्वारा पेयजल के अधिकारी को डांडा की बेली में किये जा रहे कार्यो की रिपोर्ट आज सांय तक सम्बन्धित सदस्य एवं कार्यालय को उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये।

उन्होंने डीपीआरओ और बीडीओ को निर्देशित किया कि ग्राम पंचायतों में आयोजित होने वाली जीपीडीपी की बैठकों की सूचना जन प्रतिनिधियों एवं अधिकारियों को समयन्तर्गत देना सुनिश्चित करें। ग्राम स्तर पर आयोजित होने वाली बैठकों में अधिकारियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए नोडल अधिकारी नामित कर टीम गठित की जायेगी, ताकि ग्राम स्तर पर आने वाले प्रस्तावों पर धरातल पर कार्य हुआ अथवा नही की सही सूचना प्राप्त हो सके और अधिकारी के अनुपस्थित रहने का कारण भी पता चल सके। उन्होंने कहा कि मनरेगा से ज्यादा से ज्यादा लोगों को काम मिल सके, इस हेतु रेश्यों मेंटेंन कर काम करेंगे।

इस मौके पर क्षेत्रीय विद्यायक ने अधिकारियों से कहा कि टेंडर प्रक्रिया में काफी औपचारिकताएँ होने के कारण टेंडर कॉल नही हो पाते हैं, जिनमें शिथिलीकरण की आवश्यकता है। कहा कि क्षेत्र में जो भी योजनाएं सेंक्शन हो रही हैं और इस्टीमेट बनाये जा रहे हैं, उसकी सूचना प्रस्तावित करने वाले जनप्रतिनिधि को भी देना सुनिश्चित करें।

इस मौके पर ज्येष्ठ प्रमुख एस.एस.कंडारी, डीडीओ सुनील कुमार, एसडीएम धनोल्टी लक्ष्मीराज चौहान, सीएओ अभिलाषा भट्ट, सीवीओ आशुतोष जोशी, डीपीआरओ एम.एम. खान, डीटीडीओ अतुल भण्डारी, डीएसओ अरूण वर्मा, आयुर्वेद अधिकारी डॉ सुभाष चंद, जिला आबकारी अधिकारी कैलाश बिंजौला, ईई लघु सिंचाई बृजेश गुप्ता, ईई जल निगम चम्बा के.एन.सेमवाल, तहसीलदार साक्षी, सदन के सदस्यों सहित अन्य रेखीय विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here