कैबिनेट मंत्री डॉ. अग्रवाल ने कुमाल्डा और सीतापुर में आपदाग्रस्त क्षेत्रों का दौरा कर पीड़ित परिवारों की समस्यायों को जाना

कैबिनेट मंत्री डॉ. अग्रवाल ने कुमाल्डा और सीतापुर में आपदाग्रस्त क्षेत्रों का दौरा कर पीड़ित परिवारों की समस्यायों को जाना
play icon Listen to this article

बिजली, पानी की समस्या को दुरुस्त करने के दिए निर्देश 

कैबिनेट मंत्री ने ग्राम पंचायत सीतापुर में आपदा से पीड़ित लोगों से की बातचीत 

कैबिनेट मंत्री व प्रभारी मंत्री टिहरी गढ़वाल डॉ. प्रेमचंद अग्रवाल ने आज टिहरी जिले के ग्राम पंचायत कुमाल्डा और सीतापुर में आपदाग्रस्त क्षेत्रों का दौरा कर पीड़ित परिवारों की समस्यायों को जाना और पीड़ित परिवारों से वार्ता कर स्थानीय प्रशासन से नुकसान के बारे में जानकारी प्राप्त कर भरपाई के आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

गुरुवार को प्रभारी मंत्री डॉ. अग्रवाल ने सर्वप्रथम ग्राम पंचायत कुमाल्डा पहुंचकर आपदा से क्षतिग्रस्त कृषि विपणन केंद्र, बहे मंदिर का निरीक्षण किया तथा उप जिलाधिकारी धनोल्टी से नुकसान की स्थिति की जानकारी ली। उपजिलाधिकारी ने बताया कि ग्राम पंचायत कुमाल्डा में महिला मिलन केंद्र, गांव का खेल मैदान, यूनियन बैंक की बिल्डिंग को नुकसान पहुंचा है। इस पर प्रभारी मंत्री डॉ. अग्रवाल ने प्रशासन को संपर्क मार्ग दुरुस्त करने के लिए निर्देश दिए। तत्पश्चात् प्रभारी मंत्री डॉ. अग्रवाल ग्राम पंचायत सीतापुर के तोक मोनाखाला में बही सड़क के मलबे को पार कर पहुंचे। यहां मलबे पर दबी कारों और क्षतिग्रस्त पुलिया आदि की उन्होंने जानकारी ली।

प्रभारी मंत्री डॉ अग्रवाल ने इस मौके पर सिंचाई विभाग के एचओडी मुकेश मोहन को दूरभाष पर निर्देशित कि मोनाखाला के निकट गांव के दो घर बह गये तथा आपदा के दृष्टिगत खतरे को देखते हुए एक घर के पीछे सुरक्षा दीवार लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सीतापुर में बांदल नदी को मध्यस्थ किया जाए, जिससे भविष्य में जनपद देहरादून और टिहरी की सीमा से सटे परिवारों को नुकसान ना पहुंचे।

प्रभारी मंत्री ने ग्राम पंचायत सीतापुर में आपदा से पीड़ित लोगों से वार्ता की थी। एसडीएम ने प्रभारी मंत्री को बताया कि अतिवृष्टि से चार लोग मृतक हुए हैं तथा 4 लोग लापता हुए हैं। बताया कि मृतकों के परिवारों को चार-चार लाख रुपए के चेक दे दिए गये हैं। जबकि सरखेत में दो लोग मृतक पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि 09 घर पूर्ण रूप जबकि 10 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए हैं। साथ ही 28 घरों में मलबा घुस आया है।

उन्होंने बताया कि 49 बड़े जानवर, जबकि 30 छोटे जानवर इस अतिवृष्टि के शिकार हुए हैं। जल संस्थान की 61 योजनाओं को नुकसान पहुंचा है, जिनमें से 39 को काम चलाउ कर दिया है, इसके अलावा 22 योजना पर काम चल रहा है। बताया कि पीएमजीएसवाई की 05 सड़कें क्षतिग्रस्त हुई है, जिन पर काम चल रहा है। इसके अलावा संपर्क मार्ग को मनरेगा तहत दुरुस्त किया जा रहा है। इस मौके पर प्रभारी मंत्री डॉ प्रेमचंद अग्रवाल ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि बिजली, पानी की समस्या को दुरुस्त किया जाए। उन्होंने सिंचाई विभाग के एचओडी को भी निर्देशित किया।

इस मौके पर जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि तीरथ रावत, जिलाध्यक्ष भाजपा विनोद रतूड़ी, एसडीएम धनोल्टी लक्ष्मीराज चौहान, चौकी इंचार्ज कुमाल्डा विनोद शर्मा आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here