उल्लासपूर्वक मनाई गई सुमन जी की जयंती, विधायक किशोर उपाध्याय ने की कार्यक्रम में शिरकत

0
65
यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

उल्लासपूर्वक मनाई गई सुमन जी की जयंती, विधायक किशोर उपाध्याय ने की कार्यक्रम में शिरकत

मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे कुलपति एनके जोशी

श्रीदेेव सुमन के गांव जौल में हुआ भव्य कार्यक्रम आयोजित

श्रीदेव सुमन व्याख्यान माला का भी किया गया आयोजन

मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित थे डॉ. एम आर.सकलानी

श्रीदेव सुमन गांव जौल: (सो.ला.सकलानी ‘निशांत’) टिहरी रियासत को सामंतशाही के चंगुल से मुक्त कराने वाले महान बलिदानी श्रीदेव सुमन की 108वीं जयंती आज उनके पैतृक गांव जौल में उल्लास पूर्वक मनाई गई। भव्य कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कुलपति एन के जोशी ने कहा कि विश्वविद्यालय की ओर से आयोजन समिति को पूर्ण सहयोग किया जाएगा और श्रीदेव सुमन जी के नाम पर अनेको कार्यक्रम आयोजित होंगे। विश्वविद्यालय में व्यावसायिक कोर्स आरंभ करवाए जाएंगे।

क्षेत्रीय विधायक किशोर उपाध्याय ने आश्वासन दिया कि उनके द्वारा जितना बन पाएगा वे प्रयास करेंगे। सुमन जी को नमन करते हुए माननीय विधायक ने उनके आदर्शों पर चलने का आह्वान किया तथा श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कार्यों की भी प्रशंसा की। कहा कि सुमन जी के गांव में स्थापित मूर्ति को सड़क के समानान्तर उठाया जाएगा। इसके लिए वांछित धन उपलब्ध करवायेंगे।

मुख्य वक्ता के रूप में सुमन जी के भांजे डॉक्टर मुनीराम सकलानी ने विस्तार पूर्वक सुमन जी के जीवन, व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डाला तथा अपनी संस्था श्रीदेव सुमन साहित्य, शिक्षा और संस्कृति संस्थान की ओर से किया जा रहे जा रहे कार्यों की प्रगति के बारे में भी उपस्थित समुदाय को अवगत कराया।

साहित्यकार सोमवारी लाल सकलानी ‘निशांत’ ने सुमन जी के बलिदान और कवि के रूप में उनके द्वारा गए किए गए कार्यों को कविता के रूप में प्रस्तुत किया। कहा कि सुमन एक व्यक्ति नहीं बल्कि सिद्धांत थे। उनकी गांधीवादी सोच, सत्य अहिंसा और अन्याय के विरुद्ध थी। वे मानवता के सच्चे पुजारी थे। नगर पालिका परिषद के पूर्व अध्यक्ष सूरज राणा ने सुमन जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए इंसानियत के मुद्दों पर अपनी बात रखी।

पर्यावरणविद विजय जड़धारी ने सुमन जी के सिद्धांतों के अनुरूप अनेक बातें जनता के सम्मुख रखी। कहा कि नशा मुक्ति, जल जंगल जमीन को बचाने तथा नागरिक अधिकारों की रक्षा के लिए सुमन जी ने अपने प्राणों की कुर्बानी दी। वर्तमान परिपेक्ष्य में भी सुमन जी का बलिदान प्रासंगिक है। विभिन्न विद्यालयों से आए हुए छात्र-छात्राओं ने अपनी सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। प्रस्तुत की और लोगों का स्वास्थ्य लोक गायक रवि गुसाईं ने सुमन जी पर सुंदर गीत प्रस्तुत किया। राजेंद्र जोशी के चुटकुले ने लोगों को मंत्र मुग्ध किया।

आयोजन समिति के अध्यक्ष विनोद बडोनी ने समिति के द्वारा किये जा रहे कार्यों का उल्लेख किया। कुलपति तथा माननीय विधायक का आभार प्रकट किया। जयंती के अवसर पर सामूहिक भोज का भी आयोजन किया गया। सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत भी किया गया।

इस मौके पर कुलसचिव खेमराज भट्ट, जगर्नयन बडोनी, अनिल बडोनी, शक्ति जोशी, विनोद सुयाल, सुशील बहुगुणा, सुधीर बहुगुणा, नरेंद्र रावत, दिनेश प्रसाद सकलानी, कुंवर सिंह खणका, दिनेश भंडारी, नरेश सकलानी, प्रदीप सकलानी आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन भगवती प्रसाद बडोनी ने किया।

Comment