आदर्श चरित्र के नायक श्री राम की वर्तमान में युवाओं के लिए प्रासंगिकता

    50
    आदर्श चरित्र के नायक श्री राम की वर्तमान में युवाओं के लिए प्रासंगिकता
    यहाँ क्लिक कर पोस्ट सुनें

    आदर्श चरित्र के नायक श्री राम की वर्तमान में युवाओं के लिए प्रासंगिकता

    आज जब सम्पूर्ण भारतवर्ष के भव्य राम मंदिर में श्री राम की प्राण प्रतिष्ठा के ऐतिहासिक क्षण का साक्षी बनने जा रहा है। श्री देव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो० एन०के० जोशी ने भी इस क्षण को सभी भारतवासियों के जीवन का सबसे बढ़ा उत्लाय बताया उन्होने कहा कि जिन अभूतपूर्व दैवीय क्षणों के लिए हमारे प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी जी विगत ग्यारह दिनों से सात्विक उपवास व अनुष्ठान कर रहे हैं यह घड़ी आज आ चुकी है। प्रो० जोशी ने बताया कि हमारे माननीय कुलाधिपति/श्री राज्यपाल से ज गुरमीत सिंह (से नि) जी ने कहा कि ‘राम आपके भी है, नाम हमारे भी हैं। प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी जी ने भी इस हर्षोल्लात्त के पर्व को दीपोत्सव के रूप में मनाने की अपेक्षा की है।  उच्च शिक्षा मंत्री डॉ० धन सिंह रावत जी ने भी इस दिन के लिए सभी को बधाई दी है। प्रो० एन०के० जोशी ने बताया कि श्री राम का चरित्र सिर्फ भक्ति ही नहीं वरन हमारे जीवन के सामाजिक, राजनैतिक और व्यवहारिक हर एक पहलू में मार्गदर्शन करता है। श्री राम ने हर क्षेत्र में एक आदर्श स्थापित किया जो हम सबके लिए प्रेरणा स्रोत है।

    प्रो० एन० जोशी ने अवगत कराया कि श्री राम चरित्र के महत्व की सामयिकता को देखते हुए जब वे एन०ई०पी०-2020 के पाठ्यक्रम निर्धारण समिति के अध्यक्ष थे सत्र 2022-23 से उत्तराखण्ड में जब राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 लागू की गयी उसमें रामायण एवं रामचरित मानस का व्यवहारिक दर्शन एवं व्यक्तित्व विकास में इसकी भूमिका के नाम से एक को-करीकुलर कोर्स स्नातक के सभी विद्यार्थियों के लिए आवश्यक रूप से पढ़ाया जाना सुनिश्चित किया गया। यह एक सुखद संयोग है कि यह कोर्स अभी आने वाले सत्र में ही पद्मया जाएगा।

    भारतीय संस्कृति के गौरव के परिचायक सत्य, अहिंसा, धैर्य, क्षमा, मैत्री, अनासक्ति, त्याग, उदारता, निष्ठा, मानवता प्रेम शांति सद्‌भाव, परोपकार, लोकसंग्रह आदि अनेक सात्विक भावों का रामचरित मानस में संग्रह है, जो हमारी युवा पीढ़ी के व्यक्तित्व विकास के लिए संजीवनी है।

    हमारी संस्कृति के इन दिव्य भावों को आत्मसात् करके श्रीराम के उदात्त चरित्र से प्रेरणा लेकर युवा अपने जीवन में अनेक चुनौतियों का सामना करते हुए उन पर विजय पाकर स्वयं के लिए तथा सम्पूर्ण समाज के लिए कल्याण का मार्ग प्रशस्त कर सकते हैं तथा वर्तमान में राम-राज्य की स्थापना का स्वप्न साकार कर सकते है।

    बच्चों को जन्म देकर उनका पालन-पोषण करते हुए उनमें संस्कार और सद्‌गुणों का विकास तो माता पिता और परिजन करते हैं परन्तु समाज और राष्ट्र के प्रति उनके दायित्व को सुनिश्चित कर उनमें उच्चतम मानवीय मूल्यों सद्‌गुणों और संवेदनाओं का उच्चतम विकास रामायण, रामचरितमानस आदि से शाश्वत ग्रन्थों के स्वाध्याय अथवा अध्ययन अध्यापन से ही संभव है। इन महनीय ग्रंथों में स्वविवेक, उचित-अनुचित के प्रति सजगता, समाज एवं प्रकृति के प्रति मनुष्य मात्र के दायिल राजा-प्रजा, पिता-पुत्र, माता-पुत्र भाई-भाई, पति-पत्नी गुरु-शिष्य स्वामी-सेवक जैसे सम्बन्धों को जैसा दर्शाया गया है. इससे इनकी प्रासंगिकता और बढ़ जाती है।

    इसमें यह भी बताया गया है कि अन्याय अनीति, असत्य एवं पाप इत्यादि दुष्प्रवृतियों निश्चित रूप से विनाश को प्राप्त होती है तथा न्याय सत्य नीति एवं सद्गुणों तथा मानवीय मूल्यों की सदैव विजय होती है। यदि वर्तमान में रामायण आदि ग्रन्थों के कुछ अतो को भी जीवन में अपनाया जाए तो जीवन श्रेष्ठ से श्रेष्ठतर बन सकता है।

    श्रीरामचरितमानस की रचना का उद्देश्य ही मानवता की स्थापना के समथ-साथ मूल्यपरक चिन्तन दृष्टि का विस्तार करना है। आज जब अराजकता की स्थितियों क्षण-अण निर्मित की जा रही है समाज में अनेको बुराइ‌यों चारों तरफ व्याहत है तब रामचरितमानस की ये पंक्तियों अति प्रासंगिक लगती है

    परहित सरिस धरम नहि भाई, पर-पीड़ा सम नहिं अधमाई।

    राम भारतीय संस्कृति के केन्द्रीय तत्च के रूप में स्थापित है. भारत के अतिरिक्त भारत के बाहर भी शताब्दियों से चमकया का प्रसार का है। पूर्वी एशिया के लगभग तीन देशों इंडोनेशिया, कंबोडिया एवं वाईलैंड में रामायण ‘राष्ट्रीय काव्यों के नाम से समाहित है।

    बाईलैंड की अपनी अयोकेया नगरी है जहां एक मंदिर की भित्तियों पर अंकित रामकथा प्रत्येक अनुष्ठान में रामक्रमा, इंडोनेशिया में बौद्धों एवं मुस्लिमों के विवाह के समय भी रामायण के किसी दृश्य की अनिवार्य प्रस्तुति तच्या बर्मा, श्रीलंका लाओस, मलेशिया, फिलीपीन गगोलिया, चीन, जापान, तिब्बत, खोतान आदि देशों की कला संस्कृति एवं जनजीवन पर रामकथा का गहरा प्रभाव रामकथा के व्यापक महत्त्व को व्यजित करता है।

    राम, मर्यादा पुरुषोत्तम है, धर्म, दर्शन, संस्कृति और जनजीवन में मर्यादा स्थापित करने वाले सांस्कृतिक प्रतीक है जिनके माध्यम से युगीन समस्याओं का समाधान एवं चरित्र निर्माण प्रभावी ढंग से किया जाना संभव है। ऐसे राम जो सत्य के मार्ग पर बलने वाले है, अन्याय का दमन करते है, प्रेम और गृहस्थ जीवन का आदर्श प्रस्तुत करते है, शबरी और केवट को समाज में बराबरी एवं समता का स्थान प्रदान करते है परहित ही जिनका धर्म है आज के इस अति भौतिकतावादी और यांत्रिक जीवन जीती हुई पीढ़ी को जीवन का वात्साविक दर्शन एवं समतावादी दृष्टिकोण एवं तनाव प्रबंधन का मार्ग खोजने हेतु इसी चरित्र में अवमाहन, अध्ययन एवं मनन करने की महती आवश्यकता है। साकेत में मैथिलीशरण गुप्त कहते है राम तुम्हारा चरित स्वयं ही काव्य है। कोई कवि बन जाए सहज सम्भाव्य है।” इसीलिए रामायण एवं रामचरित मानस का अध्ययन विक्ति कारणों से शैक्षणिक पाठ्यक्रम में महत्वपूर्ण है। यह दोनो महाकाव्य साहित्यिक उत्कृष्ट कृतियों के रूप में शास्त्रीय कविता की समृद्ध परपरा को प्रदर्शित करते हैं।

    धर्म के दार्शनिक एवं नैतिक आयागों, ईश्वर के प्रति समर्पण की अधारणा आध्यात्मिकता की महरी समझ विद्यार्थियों के व्यक्तित्व विकास एवं जीवन में आस्था को प्रोत्साहित करने हेतु उपयोगी है। अतीत तथा वर्तमान के मध्य सेतु के रूप में कार्य करते हुए विद्यार्थियों को सांस्कृतिक मूली से संयुक्षा करते हैं। अर्थात सांस्कृ‌तिक संवाद, जन संस्कृक्ति के विश्वासों धारणाओं, प्रथाओं सांस्कृतिक समर जीवन मूल्यों, पीढ़ियों से संचित ज्ञान का प्रसार कसते हुए उका दोनों राम कारय विधि पृष्ठभूमि के विद्यार्थियों के बीच भारत की साझी विरासत की समझ को बढ़ावा देते हुए उन्हें एक सूत्र में आबद्ध करने में सक्षम है।

    * प्रोफेसर एन के जोशी, कुलपति, श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय उत्तराखंड

     

    Comment