आइएफएस प्रशिक्षुओं ने किया स्यूल गांव का शैक्षिक भ्रमण

131
आइएफएस प्रशिक्षुओं ने किया स्यूल गांव का शैक्षिक भ्रमण

आइएफएस प्रशिक्षुओं ने किया स्यूल गांव का शैक्षिक भ्रमण

स्थल, स्थानीय और विभागीय कार्यो की प्राप्त की जानकारी

वन संरक्षक (भागीरथी वृत) डी एस मीणा ने दिये टिप्स

प्रभागीय वनाधिकार अमित कंवर ने किया संबोधित

साहित्यकार सोमवारी लाल सकलानी ‘निशांत’ ने प्रतीक चिन्ह के रूप में प्रदान की पुस्तकें

चम्बा: नरेंद्रनगर और मुनी की रेती वनप्रभाग के सौजन्य से सकलाना रेंज के स्यूल गांव में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अनुसंधान अकादमी से आए 2023- 25 बैच के 114 प्रशिक्षु अधिकारियों को हेंवल नदी के पुनर्जनन हेतु किए गए कार्यों, जल और मृदा संरक्षण की जानकारी दी गई।

स्यूल गांव के गदने में जल एवं मृदा संरक्षण हेतु किए गए कार्यों का अवलोकन कराने के साथ प्राकृतिक जल स्रोतों वर्षा के पानी के संरक्षण के लिए चाल खाल, ट्राई चेक डैम, तार- जाल चेक डैम, जैविक चेक डैम, कंटूर ट्रेंच प्रेशर पिट आदि कार्यों का अवलोकन कराया गया तथा मृदा संरक्षण और जल स्रोतों के संवर्धन के लिए लाभ के बारे में विस्तृत से समझाया गया।

वन संरक्षक डी एस मीणा के द्वारा महत्वपूर्ण जानकारियां दी गयी। कहा कि समस्त पर प्रशिक्षु अधिकारी स्थलीय निरीक्षण के द्वारा लाभान्वित होंगे और बारीकी से जल, जंगल, जमीन, जैव विविधता और विभाग द्वारा किए गए कार्यों का से लाभांवित होंगे। लीसा विदोहन से संबंधित दो पद्धतियों के बारे में बताया गया।

रील पद्धति व बोर होल पद्धति के द्वारा दीक्षा विदोहन के कार्य और उसकी प्रकृति के बारे में भी अवलोकन करवाया गया और प्रशिक्षण की विधि से संबंधित जानकारी दी गई। अधिकारियों ने सम्पूर्ण स्यूल खाले में उत्पन्न वनस्पति को संग्रहित कर अपनी एल्बम के लिए सुरक्षित किया। एसडीओ किशोर नौटियाल, रेंजर प्रबोध पांडे ने प्रशिक्षु अफसरों का सहयोग किया।

बताया कि वर्तमान में रील पद्धति से ज्यादा लीसा विदोहन कार्य का संपादन किया जा रहा है।लीसा टिपान चयनित किए जाने और उसके बाद 45×36 सेमी. की छाल को जमीन से 15 सेमी ऊपर समान रूप से 15फरवरी तक छिल जाना चाहिए। बिंदुबार प्रक्रियाओं को समझाया गया। नरेंद्र नगर रेंज के आगराखाल स्थित जायका योजना के अंतर्गत किए कार्यों की जानकारी दी गई।

वन संरक्षक धर्म सिंह मीणा (भागीरथी वृत) तथा प्रभागीय वनाधिकारी मुनि की रेती अमित कंंवर, पूर्व एसडीओ मनमोहन सिंह बिष्ट, एसडीओ किशोर नौटियाल, उप प्रभागीय वन अधिकारी अनिल पैन्यूली, वन क्षेत्राधिकारी प्रबोध पांडेय, विवेक जोशी वन क्षेत्राधिकारी नरेंद्र नगर, साहित्यकार सोमवारी लाल सकलानी ‘निशांत’, पूर्व सैनिक इंद्र सिंह नेगी, राजेंद्र सिंह नेगी वन पंचायत सरपंच जड़धार गांव ने प्रशिक्षुओं को विभिन्न संबंधित जानकारियां दी देहरादून सकलाना,नरेंद्र नगर तथा शिवपुरी रेंज के समस्त कर्मचारी उपस्थित रहे।

साहित्यकार सोमवारी लाल सकलानी निशांत ने प्रतीक चिन्ह के रूप में संबोधन के बाद उच्चाधिकारियों को हाल में प्रकाशित अपनी पुस्तक “प्रतिबिंब” कहानी संग्रह की प्रतियां भेंट की।

Comment