अमर शहीद श्रीदेव सुमन की 107वीं जयंती समारोह पूर्वक उनके पैतृक गांव जौल में मनाई गयी

220
अमर शहीद श्रीदेव सुमन की 107वीं जयंती समारोह पूर्वक उनके पैतृक गांव जौल में मनाई गयी

अमर शहीद श्रीदेव सुमन की 107वीं जयंती समारोह पूर्वक उनके पैतृक गांव जौल में मनाई गयी

श्रीदेव सुमन जी का मेला राजकीय मेला किया जाए : किशोर

चंंबा, सो.ला.सकलानी, ‘निशांत: अमर शहीद श्रीदेव सुमन की 107वीं जयंती समारोह पूर्वक उनके पैतृक गांव जौल में मनाई गयी। श्रीदेव सुमन ग्राम विकास समिति जौल और श्री देवसुमन राज्य विश्वविद्यालय के सौजन्य से इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

मुख्य अतिथि के रूप में माननीय विधायक किशोर उपाध्याय, विशिष्ट अतिथि सुशील बहुगुणा और मुख्य वक्ता साहित्यकार सोमवारी लाल सकलानी ‘निशांत थे। कुलपति डा. एन के जोशी ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की।

अमर शहीद श्रीदेव सुमन की 107वीं जयंती समारोह पूर्वक उनके पैतृक गांव जौल में मनाई गयीअपने भाषण में मुख्य अतिथि मान.विद्यायक किशोर उपाध्याय ने कहा कि श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के परिसर की भूमि का चयन करके उसका प्रस्ताव विश्वविद्यालय के माध्यम से भेजा जाए जिससे कि विश्वविद्यालय का भव्य भवन और परिसर बनाया जा सके।

कहा कि शहीद की मुख्य मूर्ती को ऊंचा उठाया जायेगा और श्रीदेवसुमन के मेले को राजकीयमेला किया जाए।सुमन संग्रहालय की भी बात कही।

कुलपति डा. एन के जोशी ने कहा कि आने वाली जुलाई माह से हम विश्वविद्यालय में तीन नये कोर्स आयोजित करवा रहे हैं। यह व्यवसायिक कोर्स होंगे। जिनमें कंप्यूटर प्रशिक्षण, वीसीए, बीबीए आदि की क्लासेस संचालित की जाएंगी ताकि स्थानीय बच्चों को लाभ मिल सके।

मुख्य वक्ता सोमवारी लाल सकलानी ने श्री देव सुमन के जीवन परिचय पर प्रकाश डाला और अपनी कविताओं के माध्यम से सुमन जी के सिद्धांतों, उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर कविताओं के माध्यम से भी प्रकाश डाला।

कार्यक्रम में सेंट एंथनी स्कूल नई टिहरी की छात्राओं ने सुमन जी पर आधारित एक नाटिका प्रस्तुत की जिसे देखकर दर्शकों की आंखों में आंसू छलक पड़े।

श्रीदेव सुमन इंटर कॉलेज चंबा और राजकीय बालिका इंटर कालेज चंबा की छात्राओं तथा अनेक बाल कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियां इस अवसर पर प्रस्तुत की।

विशिष्ट अतिथि सुशील बहुगुणा ने सुमन जी के सिद्धांतों पर आगे बढ़ने पर बल दिया। कहा कि श्रीदेव सुमन का बलिदान को सदैव याद रखा जाय और आदर्शों को आगे बढ़ाने की बात कही।

श्रीदेव सुमन के भतीजे विनोद बडोनी ने कहा कि आजादी के इतने वर्षों बाद भी श्रीदेव सुमन जी के जन्म स्थल का समुचित विकास नहीं हो सका। कहा कि उनके परिवार से एक नहीं दो स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हुए हैं। उनके पिता भी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। इसलिए सुमन जी के गांव,जन्म स्थल और जीर्ण-शीर्ण मकान पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में जौल ग्राम,आसपास के गांवों, चंबा नगर पालिका क्षेत्र, नई टिहरी और दूरदराज से लोग उपस्थित थे।

इस अवसर पर कुलसचिव खेमराज भट्ट, उद्योग व्यापार मंडल के पूर्व अध्यक्ष संजय बहुगुणा, पूर्व व्यापार मंडल के अध्यक्ष दर्मियान सज्वाण, भाजपा नेता वीरेंद्र नेगी, जीतराम भट्ट, अनुसूया प्रसाद नौटियाल, दिनेश थपलियाल, खंड शिक्षा अधिकारी अनिनाथ, सभासद शक्ति जोशी, लोक कलाकार रवि गुसाईं, श्रीदेव सुमन जी के परिवार जन, जगर्नयन बडोनी, अनिल बडोनी, मस्तराम बडोनी, बालेंदु भूषण उनियाल, संदीप रावत, विक्रम राणा, भगवती प्रसाद बडोनी आदि उपस्थित थे।

Comment